समाचार
श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री बने रानिल विक्रमसिंघे, राष्ट्रपति गोटबाया ने दिलवाई शपथ

श्रीलंका में आर्थिक संकट के मध्य श्रीलंका के पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को गुरुवार (12 मई) को पुनः प्रधानमंत्री घोषित किया गया। उन्हें राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलवाई।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, 225 सदस्यों वाली श्रीलंकाई संसद में रानिल विक्रमसिंघे की पार्टी यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के पास सिर्फ एक सीट है।

सूत्रों के अनुसार, सत्तारूढ़ श्रीलंका पोदुजाना पेरामुना (एसएलपीपी), विपक्षी समगी जन बालावेगाया (एसजेबी) के एक धड़े और अन्य कई दलों ने संसद में विक्रमसिंघे के बहुमत साबित करने के लिए अपना समर्थन जताया है।

यूएनपी के अध्यक्ष वी अबेयवारदेना ने विश्वास जताया था कि विक्रमसिंघे को नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ दिलाए जाने के बाद बहुमत प्राप्त कर लेंगे। देश की सबसे पुरानी पार्टी यूएनपी 2020 में एक भी सीट नहीं जीत सकी थी और यूएनपी के मजबूत गढ़ रहे कोलंबो से चुनाव लड़ने वाले विक्रमसिंघे भी हार गए थे।

बता दें कि श्रीलंका के चार बार प्रधानमंत्री रह चुके विक्रमसिंघे को अक्टूबर 2018 में तत्कालीन राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने प्रधानमंत्री पद से हटा दिया था। हालाँकि, दो माह बाद ही सिरीसेना ने उन्हें इस पद पर बहाल कर दिया गया था।