Uncategorised / समाचार
राजस्थान- अडानी को 1,000 मेगावॉट सौर ऊर्जा परियोजना हेतु भूमि आवंटन की स्वीकृति

राजस्थान कैबिनेट ने राजस्थान कृषि उत्पाद बाज़ार अधिनियम में संशोधन व जैसलमेर में 1,000 मेगावॉट की सौर ऊर्जा परियोजना के लिए 2,397 हेक्टेयर भूमि आवंटन सहित कई निर्णय लिए।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई बैठक में भरतपुर मेडिकल कॉलेज का नाम पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाड़िया के नाम पर करने का प्रस्ताव भी पारित किया गया।

कैबिनेट ने राजीव गांधी सेंटर ऑफ एडवांस टेक्नोलॉजी (आर-कैट) की स्थापना का निर्णय लिया। इसकी घोषणा बजट भाषण 2021-22 में एक सोसायटी के रूप में की गई थी। साथ ही समाज के उपनियमों का भी अनुमोदन किया गया।

विज्ञप्ति में कहा गया, “केंद्र को प्रदेश के युवाओं के लिए फिनिशिंग स्कूल के रूप में स्थापित किया जाएगा। इससे राज्य के युवाओं को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, रोबोटिक्स, वर्चुअल रियलिटी और बहु-विषयक अनुसंधान जैसी नवीनतम आईटी तकनीकों में सर्टिफिकेट कोर्स करने का अवसर मिलेगा।”

संस्थान अब प्रमुख आईटी कंपनियों के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर करके प्रशिक्षण प्रक्रिया शुरू करेगा।

मंत्रि-परिषद् ने राजस्थान कृषि उपज मंडी अधिनियम के 17 एवं 17-ए में संशोधन को स्वीकृति प्रदान की।

विज्ञप्ति में आगे कहा गया, “किसानों के लाभ के लिए बाज़ार क्षेत्र में विनियमन प्रणाली को प्रभावी ढंग से लागू किया जाएगा। इससे मंडी शुल्क एवं किसान कल्याण शुल्क की वसूली मंडी परिसर एवं मंडी क्षेत्र के बाहर भी किए जा रहे व्यवसाय पर प्रभावी हो जाएगी।

मंडी शुल्क संचालन, रखरखाव, मंडियों (कृषि बाजारों) में नए विकास कार्यों एवं लोक कल्याणकारी योजनाओं के कार्यान्वयन पर खर्च किया जाता है, जबकि किसान कल्याण शुल्क किसान कल्याण कोष में उल्लिखित उद्देश्यों के लिए खर्च किया जाता है।

मंत्रि-परिषद् ने अडानी रिन्यूएबल एनर्जी होल्डिंग फोर लिमिटेड द्वारा स्थापित की जाने वाली 1,000 मेगावॉट की सौर ऊर्जा परियोजना के लिए जैसलमेर में 2,397.54 हेक्टेयर भूमि आवंटित करने के प्रस्ताव को भी स्वीकृति दी। बैठक में और भी कई निर्णय लिए गए।