समाचार
राहुल गांधी नाबालिग दुष्कर्म उत्तरजीविता के परिवार की पहचान उजागर करने पर घिरे

दिल्ली के नांगल गाँव में हाल ही में नौ वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म हुआ था, जिसके परिवार वालों से मिलने बुधवार (4 अगस्त) को कांग्रेस नेता राहुल गांधी पहुँचे। उन्होंने उत्तरजीविता के परिवार वालों को अपनी कार में बैठाकर बात की और न्याय दिलाने का आश्वासन दिया। हालाँकि, इसके बाद उन्होंने उनका चित्र सोशल मीडिया पर साझा कर दिया।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, कानून है कि नाबालिग दुष्कर्म उत्तरजीविता की पहचान उजागर नहीं की जा सकती है। वहीं, चित्र में राहुल गांधी के साथ उत्तरजीविता के माता-पिता नज़र आ रहे हैं। ऐसे में बच्ची की पहचान उजागर करने को लेकर कांग्रेस नेता सबके निशाने पर आ गए हैं।

इस पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, “हम राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग से मांग करेंगे कि कांग्रेस के ट्वीट का स्वतः संज्ञान लेते हुए उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाए। परिवार वालों का चित्र साझा करके राहुल ने पॉक्सो कानून की धारा 23 और किशोर न्याय देखभाल की धारा 74 का उल्लंघन किया है।”

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, “माता-पिता के अश्रु केवल एक बात कह रहे हैं कि उनकी बेटी, देश की बेटी न्याय चाहती है। इस न्याय के रास्ते पर मैं उनके साथ हूँ।” वहीं, दिल्ली मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी उत्तरजीविता बच्ची के परिवार वालों से मिले। उन्होंने सरकार की ओर से 10 लाख रुपये दिए जाने की घोषणा की। साथ ही न्यायालय में मामले को लेकर एक अच्छा वकील देने की भी बात कही।