समाचार
पुणे को शीर्ष शहर बनाने के लिए 20 वर्षों में 73,000 करोड़ की विकास योजना का प्रस्ताव

पुणे महानगर क्षेत्र (पीएमआर) के लिए प्रस्तावित 73,000 करोड़ रुपये की मसौदा विकास योजना (डीपी) आगामी 20 वर्षों में नियोजित विकास कार्यों के माध्यम से शहर को भारत का सबसे अधिक रहने योग्य स्थान बनाने के साथ प्रीमियम अंतरराष्ट्रीय निवेश गंतव्य बनाने का लक्ष्य रखती है।

पीएमआरडीए के सीईओ सुहास दीवासे ने बताया कि डीपी का उद्देश्य सुविधाजनक गतिशीलता, कुशल इंफ्रास्ट्रक्चर, आत्मनिर्भर आवास एवं सुविधाएँ, विवेकपूर्ण रोजगार एवं आर्थिक विकास और एक लचीले वातावरण को एकीकृत कर सतत विकास करना है।

यह मसौदा विभिन्न शहरों को बनाने की बात करता है, जो प्रकृति में आत्मनिर्भर हैं और उनका अपना एक अनूठा आर्थिक मॉडल भी है। उन पर इस तरह से काम किया जाएगा कि यह पुणे नगर निगम (पीएमसी) और पिंपरी चिंचवाड़ नगर निगम (पीसीएमसी) का पूरक हों।

लगभग 18 शहरी विकास केंद्र, जो एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। साथ ही पीएमसी और पीसीएमसी के साथ एक जन परिवहन प्रणाली के माध्यम से विकास योजनाओं के अनुसार बनाए जाएँगे।