समाचार
राजस्थान में जेल विभाग 17 पेट्रोल पंप संचालित करेंगे, कैदियों के पास होगी ज़िम्मेदारी

राजस्थान में जेल विभाग 17 पेट्रोल पंप आरंभ करने जा रहा है, जिनके संचालन की ज़िम्मेदारी कैदियों के पास रहेगी। राज्य की जेलों में बंद कैदियों के कौशल विकास और जेलों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में राज्य सरकार नवाचार कर रही है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, शुरुआती तौर पर भरतपुर और अलवर में पेट्रोल पंप शुरू करने को लेकर जेल प्रशासन और इंडियन ऑइल कंपनी के बीच समझौता हुआ है। इसके उपरांत कोटा में एक और अजमेर में दो पेट्रोल पंप शुरू किए जाएँगे।

जेल महानिदेशक राजीव दसोत ने बताया, “आगामी चरण में राजस्थान के 12 जिलों में पेट्रोल पंप शुरू होंगे। इसके लिए सर्वेक्षण किया जा रहा है। जयपुर जेल परिसर के बाहरी हिस्से में गत वर्ष से पेट्रोल पंप संचालित हो रहा है, जिसका जिम्मा खुली जेल के कैदी संभाल रहे हैं। इससे प्रतिमाह 10 लाख रुपये का कारोबार हो रहा है।”

उन्होंने कहा, “पेट्रोल पंप में होने वाली आमदनी का उपयोग जेलों में सुविधाएँ बढ़ाने के लिए किया जाएगा। जेलों में कई तरह के नवाचार किए जा रहे हैं। कोटा सेंट्रल जेल में कैदी समाचार पत्र निकाल रहे हैं। उनके द्वारा लिखे गए लेख समाचार पत्रों में प्रकाशित किए जा रहे हैं। कैदियों की सुरक्षा के लिए हथियारबंद पुलिसकर्मी उपस्थित रहेंगे।”