समाचार
“सत्ता में रहने की आदी कांग्रेस को सीखना होगा कि विपक्ष में कैसे रहते हैं”- प्रशांत किशोर

लंबी वार्ता के बावजूद कांग्रेस का दामन ना थामने वाले प्रशांत किशोर ने पार्टी को लेकर अब अहम टिप्पणी की है। उन्होंने कहा, “उनके नेता इस गलतफहमी में हैं कि भाजपा सरकार को लोग खुद हटा देंगे और उन्हें सत्ता अपने आप मिल जाएगी।”

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने एक साक्षात्कार में बताया, “मैं देखता हूँ कि कांग्रेस के लोगों में एक समस्या है। वे मानते हैं कि उन्होंने लंबे समय तक देश में शासन किया है और जब लोग नाराज़ होंगे तो स्वयं ही सत्ता परिवर्तन कर देंगे और हम फिर से आ जाएँगे। वे कहते हैं कि हम सबकुछ जानते हैं।”

प्रशांत किशोर ने कहा, “कांग्रेस अब देश में मुख्य विपक्षी दल है लेकिन उसे सीखना होगा कि विपक्ष में किस तरह रहा जाता है। आप यह कहकर नहीं बच सकते हैं कि मीडिया हमें कवर नहीं कर रहा है। इससे ऐसा लगता है कि उन्हें सत्ता में रहने की आदत हो गई है। लोग आज उनकी सुन नहीं रहे हैं तो उनमें खीझ पैदा हो रही है।”

चुनावी रणनीतिकार ने कहा, “भाजपा से कोई एक दल मुकाबला नहीं कर पाएगा। मैं कहता हूँ कि आने वाला एक लंबा समय भाजपा का हो सकता है यदि उसे मिलकर चुनौती नहीं दी गई। कांग्रेस 1984 के बाद से ही लगातार गिरावट के दौर में है। वह तब से एक बार भी अपने दम पर सरकार नहीं बना सकी है।”

उन्होंने कहा, “आपातकाल. बोफोर्स, मंडल आंदोलन, राम मंदिर आंदोलन और फिर 2014 में हुए इंडिया अगेंस्ट करप्शन अभियान ने कांग्रेस के वोट प्रतिशत में लगातार कमी की है। “