समाचार
बुनियादी सुरक्षाओं की कमी व गुणवत्ताहीन बैटरियों से लगी ई-स्कूटरों में आग- जाँच समिति

एक सरकारी जाँच समिति ने कथित तौर पर पाया कि हाल ही में आग की घटनाओं में शामिल ईवी वाहनों में बुनियादी सुरक्षा प्रणाली ही नहीं थी।

सड़क और परिवहन मंत्रालय ने इस वर्ष के आरंभ में इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों में आग लगने की घटनाओं के कारणों की जाँच हेतु एक विशेषज्ञ समिति गठित की थी।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट में निष्कर्षों की जानकारी रखने वाले एक अधिकारी के हवाले से कहा गया कि अत्यधिक गर्म होने वाली बैटरियों के लिए गर्मी को बाहर निकालने हेतु कोई निकासी तंत्र नहीं था और उनकी बैटरी प्रबंधन प्रणाली भी गंभीर रूप से दोषपूर्ण थी।

बैटरी प्रबंधन प्रणाली (बीएमएस) एक इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली है, जो एक रिचार्जेबल बैटरी (सेल या बैटरी पैक) का प्रबंधन करती है।

समिति ने बताया कि कई इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन केवल न्यूनतम कार्यक्षमता के साथ आए थे और वाहन सुरक्षा को प्राथमिकता देने की बजाय उन्होंने सारे मानदंड पूरे नहीं किए थे।

ईटी की रिपोर्ट में अधिकारी के हवाले से कहा गया, “कंपनियों को पहले ही बता दिया गया कि कई ईवी दोपहिया निर्माताओं ने शॉर्टकट लिए हैं। उनकी बैटरियाँ परीक्षणों में विफल रही हैं। कई मामलों में उनमें कोई निकासी तंत्र नहीं था। इस वजह से वे फट रही हैं और आग पकड़ रही हैं। वास्तव में वे खराब गुणवत्ता की बैटरियाँ हैं।”

अधिकारी ने आगे कहा, “दूसरी तरफ बैटरी में सामान्य प्रबंधन प्रणाली भी नहीं है।एक सामान्य बैटरी अत्यधिक गर्म होते ही उसकी पहचान कर काम करना बंद कर देती है।”

विशेषज्ञ जाँच समिति की अंतिम रिपोर्ट एक सप्ताह के भीतर आने की संभावना है लेकिन सुरक्षा को लेकर की गई सिफारिशें पहले ही ईवी विनिर्माताओं के साथ साझा की जा चुकी हैं।