राजनीति
अगस्ता वेस्टलैंड- मुख्य आरोपी ने लिया कमलनाथ, खुर्शीद और अहमद पटेल का नाम

3000 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे के मामले में मुख्य आरोपी राजीव सक्सेना ने कांग्रेस से जुड़े कई बड़े नामों का बयान में खुलासा किया। इसमें कमलनाथ के भतीजे रतुल पुरी के अलावा बेटे नकुल नाथ का भी नाम आया। साथ ही सलमान खुर्शीद और अहमद पटेल का भी जिक्र किया गया।

राजीव सक्सेना चार्टर्ड अकाउंटेंट है। वह जमानत पर है। उसे जनवरी 2019 में दुबई से प्रत्यर्पित करके लाया गया था। ईडी ने 385 करोड़ रुपये की संपत्ति अटैच करके उससे पूछताछ की। अब वह उसे सर्वोच्च न्यायालय के पास लेकर गई है।

इंडियन एक्सप्रेस ने राजीव सक्सेना के 1000 पेज के बयान, बैंकिंग स्टेटमेंट, ऑफशोर कंपनियों के रिकॉर्ड और प्रमुख लोगों के साथ किए गए ईमेल की जानकारी एकत्रित की। इसमें कई कथित हवाला ट्रांजैक्शन और ऑफशोर स्ट्रक्चर का जाल मिला, जिसके बारे में आरोपी ने स्वीकारा था।

आरोपी ने ईडी को बताया, “उस समय निर्णयों को प्रभावित करने वाले नेताओं और नौकरशाहों के लाभ के लिए भी ये सब किया गया। इनमें से कुछ फंड को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से स्ट्रक्चर्ड ट्रांजैक्शन में लाया गया था। उसमें से कुछ स्ट्रक्चर मैंने बनाए थे। इसके रास्ते भारत में निवेश किया गया।”

चार्जशीट में इटली और मॉरिशस के लेटर रोगैटरी का जिक्र करके आरोप लगाया गया कि राजीव ने गौतम खेतान संग मिलकर अगस्ता वेस्टलैंड से इंटर्सटेलर टेक्नोलॉजी के अकाउंट में 124 करोड़ यूरो लिए थे। बाद में इस धनराशि का उपयोग दलालों और संदिग्ध सरकारी कर्मचारियों के भुगतान में किया गया।

राजीव सक्सेना का आरोप है कि डिफेंस डीलर सुशेन मोहन गुप्ता और खेतान ने जिन लोगों का नाम लिया, वे खुद में विशेष हैं। उन्होंने कई बार सलमान खुर्शीद और कमल चाचा का नाम लिया, जो मेरे हिसाब से कमलनाथ के लिए था।

आरोपी ने आगे कहा, “इंटर्सटेलर टेक्नोलॉजीज मुख्य कंपनी थी, जिसके पास अगस्ता वेस्टलैंड से अवैध धन आया था। इसके मालिक सुशेन मोहन गुप्ता थे, जो गौतम खेतान के माध्यम से इसे चलाते थे। वे दोनों मिलने के दौरान अक्सर भारतीय राजनेताओं का नाम लेते थे।”

इस बाबत कमलनाथ का कहना है, “मैंने पहले ही साफ कर दिया कि भतीजे की कंपनियों और लेन-देन से मेरा कोई संबंध नहीं है। बेटे की बात है तो वह दुबई का एनआरआई है। मैंने जब प्रिस्टीन रिवर के बारे में सुना और बेटे से बात की तो उसने कहा कि इस कंपनी के बारे में वह कुछ नहीं जानता है। ऐसा कोई दस्तावेज़ नहीं है, जो उसके होने की पुष्टि करे।

सलमान खुर्शीद ने मामले में कहा, “मैं आश्चर्यचकित हूँ कि मेरा भी नाम इसमें घसीटा गया। सुशेन मोहन के पिता देव मोहन मेरे दोस्त हैं और मैं उनका शुभचिंतक हूँ। मुझे नहीं लगता कि उनका रतुल पुरी या राजीव सक्सेना से कोई संबंध है।”