राजनीति
“प्रियंका वाड्रा लापता” के पोस्टर राय बरेली में लगाए गए, कांग्रेस ने स्थानीय नेताओं को ठहराया दोषी

यू.पी.ए. अध्यक्ष सोनिया गांधी के संवैधानिक क्षेत्र राय बरेली, उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में प्रियंका गांधी वाड्रा की आलोचना करते हुए पोस्टर लगे हैं। इन पोस्टरों में प्रियंका के लापता होने व इमोशनल ब्लैकमेलर होने की बात कही गई है। इन पोस्टरों के कारण भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच विवाद हो गया है। पोस्टर में क्षेत्र की कई त्रासदियों में भी प्रियंका की अनुपस्थिति की निंदा की गई है, हिंदुस्तान टाइम्स  ने रिपोर्ट किया।

कांग्रेस ने पोस्टर अभियान का आरोप भाजपा पर लगाया है जिसके अंतर्गत 2019 लोक सभा चुनावों के पहले सदर और सरेनी के संसदीय क्षेत्र में 50 से 100 पोस्टर लगाए गए हैं।

जिला कांग्रेस समिति के अध्यक्ष वी.के.शुक्ला ने इस कृत की निंदा की और कुछ स्थानीय राजनेताओं जो कांग्रेस छोड़कर भाजपा में सम्मिलित हो गए पर मलिन अभियान चलाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जिला मजिस्ट्रेट के सामने वे शिकायत दर्ज करेंगे। साथ में यह भी कहा कि प्रियंका गांधी वाड्रा का राय बरेली और अमेठी के लोगों से विशेष लगाव है, वे दिल्ली में उनसे मिलती रहती हैं।

राय बरेली के भाजपा अध्यक्ष राम देव पाल ने अपनी पार्टी का बचाव करते हुए कहा कि हम इस प्रकार की कार्यनीति का सहारा नहीं लेते हैं और भाजपा नेताओं पर निशाना साधते हुए पोस्टर पूर्व में आ चुके हैं। ‘’प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपनी माता सोनिया गांधी के लिए 2014 लोक सभा चुनावों में सक्रियता से प्रचार किया था। वे कांग्रेस में कोई पदाधिकारी नहीं हैं। वे यहँ केवल चुनाव के समय में अपनी माँ के पक्ष में माहौल बनाने आती हैं। यह स्थानीय कांग्रेस नेताओं की ध्यान आकृष्ट करने की एक चाल लगती है।”, पल ने कहा।

जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि शिकायत न दर्ज होने पर भी वे मामले की जाँच करेंगे।