राजनीति
पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी हाउडी मोदी पर टिप्पणी के कारण विवाद में, जानें इतिहास

अपने विवादित बयानों के कारण अकसर चर्चा में रहने वाले पाकिस्तान के तकनीकी और विज्ञान मंत्री फवाद हुसैन चौधरी ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है। ह्यूस्टन में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संयुक्त हाउडी मोदी कार्यक्रम को असफल कार्यक्रम बताया है।

हाउडी मोदी के इस कार्यक्रम पर फवाद ने ट्वीट करते हुए लिखा, “लाखों रुपये खर्च करने के बाद भी मोदी का यह निराशाजनक शो था। ये लोग सिर्फ यही कर सकते हैं यूएसए, कनाडा और दूसरी जगहों से लोगों को इकट्ठा कर सकते हैं, लेकिन यह दिखाता है कि पैसों से सब कुछ नहीं खरीदा जा सकता।”

चौधरी इससे पहले भी अपने बयानों के कारण कई बार अपनी और पाकिस्तान सरकार की किरकिरी करा चुके हैं। भारत के चंद्रयान-2 के असफल परीक्षण के बाद चौधरी ने एक ट्वीट किया था, जिसपर पाकिस्तान के लोगों ने ही उन्हें ट्रोल कर दिया था।

पाकिस्तानी केंद्रीय मंत्री चौधरी ने चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का लैंडिंग से महज 69 सेकंड पहले पृथ्वी से संपर्क टूटने के बाद ट्वीट करते हुए लिखा, “डियर इंडिया! जो काम नहीं आता, उसमें पंगा नहीं लेते। सो जा भाई मून की जगह मुंबई में उतर गया होगा खिलौना। उफ, मैं वाकई यह महान लम्हा देखने से चूक गया।”

इस ट्वीट के बाद पाकिस्तान के ही कई लोगों ने चौधरी को अपने देश के विकास की ओर ध्यान लगाने को कहा। लोगों ने कहा कि दुनिया मेट्रो की ओर अग्रसर है और पाकिस्तानी मंत्री की सोच साइकल और रिक्शे पर ही सिमट गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 69वें जन्मदिन पर शर्मनाक ट्वीट करते हुए चौधरी ने लिखा, “आज के दिन हमें गर्भनिरोधकों का महत्व समझ आता है।” उनके इस ट्वीट कर काफी हंगामा हुआ। कई लोगों ने इस पर खरी-खोटी भी सुनाई।

इससे पहले, अपने ही देश पर सवाल उठाते हुए फवाद ने लिखा, “मदरसे में आत्मघाती हमलावर तैयार किए जाते हैं, इससे हमें इंकार नहीं करना चाहिए।” उनके इस बयान पर भी पूरे विश्व भर में आलोचना हुई।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद भी फवाद ने भारत से युद्ध की तैयारी की बात कही। इतना ही नहीं भारत को परिणाम भुगतने की धमकी भी दे डाली थी, चौधरी के इस बयान का लोगों ने खूब मज़ाक उड़ाया था।

चौधरी जैसे कई मंत्री अपने ऊल जलूल बयानों के कारण पाकिस्तान सरकार की वक्त वेवक्त किरकिरी करवाते रहते हैं। ऐसे ही है एक रेल मंत्री मोहम्मद रशीद, जिन्होंने कुछ दिन पहले ही भारत को परमाणु हमले की धमकी देकर पूरे विश्व में पाकिस्तान की जगहँसाई करवा चुके हैं।

पाकिस्तान की नई सरकार बनने के साथ ही बयानवीर मंत्रियों की संख्या भी बढ़ गई है।

इससे पहले, मंत्री चौधरी का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वे किसी पत्रकार वार्ता में सरकार की तरफ से पक्ष रख रहे थे। वार्ता के दौरान चौधरी सरकारी आंकड़े को पढ़ नहीं पाए। यह वाकया तीन-चार बार हुआ लेकिन वो स्पष्ट रूप से नहीं पढ़ पा रहे थे।

इस तरह के किरकिरी करवाने के बावजूद फवाद पाकिस्तान इमरान खान के मंत्रिमंडल में टिके हुए हैं। कई लोग इसके पीछे प्रधानमंत्री इमरान खान से उनका संबंध को कारण मानते हैं।

वैसे भी चौधरी ज्यादा दिनों तक सरकार में रह नहीं पाएँगे, उन पर सदस्यता जाने का खतरा मंडरा रहा है। उनके ऊपर चुनाव आयोग को ग़लत जानकारी देने का मामला पाकिस्तान के एक न्यायालय में चल रहा है।

न्यायालय इस संबंध में चुनाव आयोग और कानून मंत्रालय को एक नोटिस भी जारी कर चुका है। इसमें फवाद चौधरी को उनकी संपत्ति की घोषणा करने में विफल रहने के लिए अयोग्य घोषित करने की मांग की गई है।