राजनीति
नौ-वर्षीय बच्ची के दुष्कर्म का आरोपी “जमानत पर बाहर मवेशी चोर” पड़ोसी मोहम्मद हैदर

गौमांस का अवैध व्यापार क्रूर है। इसमें जानवरों पर अमानवीय क्रूरता की जाती है, मानवों की भी हत्या होती है और यह काफी सरल व लाभदायक है। इसमें समाज के सबसे असामाजिक तत्व लिप्त होते हैं। फिर भी अवैध कारोबार के विरुद्ध कानून दुर्बल है, दोषसिद्धि न के बराबर होती है और जमानत मिलना सरल है।

हाल ही में उत्तर प्रदेश में एक नौ-वर्षीय बच्ची के साथ पड़ोसी ने दुष्कर्म किया था और पिता ने पुलिस और “तंत्र” पर आरोप लगाया है ऐसे अपराधियों को खुला छोड़ने का। लड़की के पिता के अनुसार आरोपी मोहम्मद हैदर एक कुख्यात मवेशी चोर और गौमांस व्यापारी है जिसे लॉकडाउन के दौरान जमानत मिली।

दुष्कर्म मामले की प्राथमिकी 18 अगस्त को मेरठ जिले के सरधना पुलिस थाने (क्रमांक 365/2020) में दर्ज हुई है। लड़की के पिता मोहम्मद लखमी के अनुसार जब बच्ची घर के बाहर खेल रही थी तो हैदर बच्ची को फुसलाकर पास के एक भवन में लेकर गया।

वहाँ उसने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया और उसे वहीं छोड़ दिया। कुछ पड़ोस के बच्चों ने आकर लखमी को बताया कि हैदर ने उसकी पुत्री के साथ दुष्कर्म किया है और बच्ची खाली भूमि पर पड़ी हुई है। लखमी अपनी बेटी को उठाकर लाए और तुरंत पुलिस को फोन किया।

उसके बाद वे हैदर के घर गए जहाँ हैदर के बहनोई लाल मोहम्मद ने बताया कि वह घर पर नहीं है। थोड़ी देर बाद लाल मोहम्मद अपनी पत्नी मुस्तकीमा के साथ लखमी के घर आया और धमकी दी कि पुलिस में मामला दर्ज न कराए, शिकायत में कहा गया।

पुलिस ने हैदर, लाल मोहम्मद और मुस्तकीमा पर आईपीसी की धारा 375, 452 और 506 एवं पॉक्सो अधिनियम के खंड 3 व 4 के आधार पर मामला दर्ज कर लिया है।

लखमी ने संवाददाता को बताया कि हैदर नई दिल्ली का निवासी है लेकिन कई बार अपनी बहन मुस्तकीमा के घर सरधना के खिर्वा जलालपुर गाँव में आता रहता है। उन्होंने यह भी कहा कि वह कुख्यात मवेशी चोर और गौमांस व्यापारी है जिससे अधिकांश निवासी दूरी बनाए रखते हैं।

“हम इस व्यापार को बहुत बुरा मानते हैं। जब भी वह आता है, कोई उससे बात नहीं करता और वह कई बार आता है। उसके पास काफी पैसा रहता है और वह नशे करते हुए भी पकड़ा गया है।”, जीविका के लिए ऑटोरिक्शा चलाने वाले लखमी ने बताया।

“दिल्ली में उसपर बहुत मामले दर्ज हैं। सब जानते हैं। उसे लॉकडाउन के दौरान जमानत मिली हुई है।”, लखमी ने कहा। “मेरी बेटी के साथ जो हुआ उसके लिए तंत्र ज़िम्मेदार है। उसे कभी खुला नहीं छोड़ना चाहिए था।”, उन्होंने आगे बोला।

जब स्वराज्य ने सरधना के पुलिस अधिकारी से पूछा तो उन्होंने बताया कि दिल्ली में हैदर के आपराधिक रिकॉर्ड तक उनकी पहुँच नहीं है।

“वह नशा करता है, यह हम जानते हैं। लेकिन सरधना पुलिस थाने में उसपर कोई मामला दर्ज नहीं हुआ था। दिल्ली में होगा मामला लेकिन वह हमारी पहुँच में नहीं है।”, पुलिस अधिकारी ने कहा। उन्होंने यह भी बताया कि तीनों आरोपी फरार हैं।

स्वाति गोयल शर्मा स्वराज्य में वरिष्ठ संपादक हैं और वे @swati_gs के माध्यम से ट्वीट करती हैं। इस रिपोर्ट में उनकी सहायता विशाल पंडित ने की है जो गाज़ियाबाद 365 नाम का पोर्टल चलाते हैं।