राजनीति
गिरिराज पर्वत से हिंदू मूर्तियों को हटाओ- योगी आदित्यनाथ सरकार को एन.जी.टी. का निर्देश

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एन.जी.टी.) ने उत्तर प्रदेश सरकार को मथुरा के गिरिराज पर्वत के निकट वन विभाग के अधीन आने वाले 12 हेक्टेअर के क्षेत्र में उपस्थित सभी मंदिरों को हटाने के निर्देश दिए हैं, टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने रिपोर्ट किया। ये मंदिर कथित तौर पर वन विभाग की ज़मीन पर बने हैं।

ट्रिब्यूनल ने अपने आदेश में सरकार को मंदिर की मूर्तियों को आदरपूर्वक किसी दूसरे वैध मंदिर में स्थानांतरित करने के लिए कहा है।

“उत्तर प्रदेश और इसके अधिकारियों को अवैध निर्माण हटाने से पूर्व, 12 हेक्टेअर के दायरे से आगे किसी वैध मंदिर में इन मूर्तियों को आदरपूर्वक स्थापित करने का निर्देश है।“, मंगलवार (23 अक्टूबर) को जारी किए गए निर्देश में कहा गया। रिपोर्ट के अनुसार, निर्देश में यह भी साफ किया गया कि यदि कोई समाधि इस क्षेत्र में आती है तो उसे न हटाया जाए।

अधिकारियों ने बताया कि इस क्षेत्र में 20 मंदिर आते हैं जिसमें से तीन बड़े मंदिर हैं जिन्हें एन.जी.टी. के आदेश पर हटाया जाना है। एन.जी.टी. को राज्य परिषद ने वन भूमि पर 33 अतिक्रमणों के बारे में सूचित किया था।

पर्यावरण मुद्दों और श्रद्धालुओं की परेशानियों पर अध्ययन के लिए एन.जी.टी. के निर्देश के बाद 2015 में एक समिति गठित की गई थी। समिति ने गिरिराज पर्वत और परिक्रमा मार्ग के विकास के लिए 17 सुझाव भी दिए हैं।

एन.जी.टी. ने  राजस्थान सरकार को भी ‘पूंछरी का लोटा’ के विकास के लिए एफिडेविट दर्ज करने का निर्देश दिया है। यह वही क्षेत्र है जहाँ गिरिराज पर्वत का कुछ अंश राजस्थान में आता है।