राजनीति
“भगत सिंह आतंकवादी थे?”, जम्मू विश्वविद्यालय के प्राध्यापक बयान से आए विवाद में

जम्मू विश्वविद्यालय में राजनीतिक विज्ञान के प्राध्यापक द्वारा क्रांतिकारी स्वतंत्रता सैनानी शहीद भगत सिंह को आतंकवादी कहे जाने पर बवाल हो गया है, जागरण ने बताया। इस बयान का वीडियो वायरल हो जाने पर मामले ने तूल पकड़ लिया है।

जहाँ एक तरफ विद्यार्थियों की राष्ट्रवादी भावना आहत हो जाने से विद्यार्थी प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर राजनीतिक स्तर पर भी यह बयान ालोचना का पात्र बन गया है।

इस आरोप के बाद प्रोफेसर ताजुद्दीन को अध्यापन से प्रतिबंधित कर दिया गया है। इस मामले की जाँच के लिए वाइस चांसलर ने एक समिति का गठन भी किया गया है। समिति की रिपोर्ट के बाद ही कोई कार्यवाही की जाएगी।

ताजुद्दीन ने अपना पक्ष स्पष्ट करते हुए कहा कि वे तत्कालीन शासन के अनुसार भगत सिंह की छवि बता रहे थे, न कि उन्हें आतंकवादी कहकर संबोधित कर रहे थे। ध्यान देने योग्य बात है कि वीडियो में भाषण का सिर्फ कुछ अंश ही देखा जा सकता है इसलिए संभावित है कि प्राध्यापक सच बोल रहे हों।

दूसरी ओर कानून विभाग के विद्यार्थियों की माँग है कि प्राध्यापक के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही हो क्योंकि उन्होंने एक सम्मानीय क्रांतिकारी के बारे में बताने के लिए अपमानजनक शब्द का प्रयोग किया।