राजनीति
“कौन तृप्ती देसाई?”, एक्टिविस्ट के सबरीमाला में प्रवेश के प्रश्न से बचकर निकले केरला मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन

जब केरला के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से मीडिया ने पूछा कि क्या वे तृप्ति देसाई जैसी महिला कार्यकर्ता को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने देंगे तो प्रतिक्रिया स्वरूप उन्होंने देसाई की पहचान के विषय में सवाल किया, मातृभूमि  ने रिपोर्ट किया।

“कौन है वह? क्या वह पहले चुनावों में खड़ी हो चुकी है? क्या पत्रकारों का काम नहीं है यह पता करना कि वह कौन है?”, उन्होंने पूछा। उनके द्वारा आयोजित सर्वदलीय बैठक के बाद पत्रकार सम्मेलन हुआ। यह एक असफल बैठक रही क्योंकि भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही इस बैठक का यह कहकर बहिष्कार दिया कि वे भक्तों के साथ हैं।

बैठक में विजयन ने कहा कि सबरीमाला में किसी प्रकार की हिंसा नहीं होनी चाहिए क्योंकि यह राष्ट्रीय महत्ता का तीर्थस्थल है। दिलचस्प बात है कि सरकार ने शुक्रवार तक भक्तों को रोकने के लिए सुरक्षा दुगनी कर दी थी।

एक्टिविस्ट तृप्ति देसाई जिसने सबरीमाला के दर्शन करने की कसम खाई है, कोची एयरपोर्ट पर हज़ारों भक्तों ने उसका रास्ता घेर लिया था और कोई टैक्सी चालक उसे सबरीमाला ले जाने के लिए तैयार नहीं था। हालाँकि वह अभी भी कह रही है कि बिना सबरीमाला के दर्शन किए वह महाराष्ट्र नहीं लौटेगी और केरला सरकार ने उसे सुरक्षा भी प्रदान की है।