राजनीति
हरियाणा के पूर्व कांग्रेस मुख्यमंत्री हुड्डा पर मुकदमा- नेशनल हेराल्ड की जनक कंपनी को अवैध रूप से भूमि आवंटन?

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भुपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा अधिकृत भूमि को अवैध रूप से पुनः आवंटित करने के लिए राज्य के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने गुरुवार (15 नवंबर) को उनपर मुकदमा चलाए जाने का प्रस्ताव के स्वीकृत कर लिया है, द ट्रिब्युन  ने रिपोर्ट किया।

राज्यपाल की यह स्वीकृति, पंजाब व हरियाणा उच्च न्यायालय के प्रवर्तन निदेशालय के घोषणा-पत्र जिसमें 2005 में हुड्डा द्वारा पंचकुला में असोसिएट जर्नल्स लिमिटेड (ए जे एल) को अपने अधिकार का गलत इस्तेमाल कर भूमि पुनः आवंटित करने की बात कही गई है, के एक वर्ष बाद आई।

मई 2016 में राज्य के विजिलेंस ब्युरो ने हुड्डा द्वारा ए जे एल को पंचकुला ज़मीन देने के मामले में उनके विरुद्ध धोखाधड़ी व भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया था। दिसंबर 2016 में यह केस सी बी आई के पास चला गया था।

मुख्यमंत्री के तौर पर प्लॉट आवंटन के समय हुड्डा हरियाणा नगरीय विकास प्राधिकरण (हुडा) के अध्यक्ष थे। इस मामले पर सी बी आई व  प्रवर्तन निदेशालय, दोनों ही जाँच कर रहे हैं।

जाँचकर्ताओं के अनुसार, हुड्डा ने हुडा और नगर  योजना के वित्तीय आयुक्त की सलाह को नज़रअंदाज़ कर याचिकाकर्ता को लाभ पहुँचाया था। कथित भूमि का आवंटन नेश्नल हेराल्ड समाचार-पत्र के प्रकाशक ए जे एल को 1982 में किया गया था लेकिन तय समय-सीमा के भीतर निर्माण कार्य पूरा न करने के कारण 1992 में राज्य सरकार ने यह भूमि वापस ले ली थी।

ए जे एल ने इसके विरुद्ध अपील की थी लेकिन उसकी याचिका अस्वीकृत कर दी गई थी। उसके बाद इसने हुडा के अध्यक्ष के सामने याचिका की जहाँ 2005 में हुड्डा ने इस याचिका को मंज़ूरी दी। हुडा की नीति व विधान के विपरीत ए जे एल को 1982 के मूल्य पर ज़मीन वापस कर दी।