राजनीति
कांग्रेस में गांधी की अहिंसा भी और माओ की हिंसा भी? माओवादियों के पत्राचार में मिला दिग्विजय सिंह का नम्बर

कथित तौर पर माओवादियों से संबंध पर पुणे पुलिस मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से पूथताछ करेगी। पुणे पुलिस को मिले एक पत्र से प्रतिबंधित सी पी आई (एम) से उनके संबंध का पता लगता है।

25 सितंबर 2017 को लिखे गए एक पत्र में ‘कॉमरेड प्रकाश’ ने ‘कॉमरेड सुरेंद्र’ को कहा था कि सी पी आई (एम) की गतिविधियों में सहयोग करने के लिए कांग्रेस नेता “इच्छुक” रहते हैं। एक निश्चित फोन नम्बर रहता था जिससे किसी भी प्रकार की सहायता के लिए कॉमरेड सुरेंद्र संपर्क करता था। यह फोन नम्बर कथित तौर पर दिग्विजय सिंह का है, इंडियन एक्सप्रेस  ने रिपोर्ट किया।

पहले जून में पुणे पुलिस ने पाँच एक्टिविस्टों को गिरफ्तार किया और दावा किया था कि उनके पास से कई दस्तावेज मिले हैं। उनमें से एक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मारने की योजना भी थी।

कई एक्टिविस्टों और शीर्ष माओवादी नेताओं की गिरफ्तारी के बीच दिग्विजय सिंह ने केंद्र सरकार को उन्हें गिरफ्तार करने की चुनौती दी है।”अगर मैं दोषी हूँ तो मैं केंद्र और राज्य सरकार को मुझे गिरफ्तार करने की चुनौती देता हूँ।”, उन्होंने कहा।

असल में पुणे पुलिस ने इस बात की पुष्टि कर ली है कि वह फोन नम्बर दिग्विजय सिंह का है पर अन्य सवालों से बचने के लिए उन्होंने इस बात पर टिप्पणी नहीं की है। अभी तक उन्होंने भारतीय दंड विधान के अनुसार गैर-कानूनी गतिविधि प्रतिबंध अधिनियम (यू ए पी ए) के तहत माओवादी जाँच में 22 लोगों को गिरफ्तार किया है।