राजनीति
क्या हिंदुत्व का सिद्धांत जोड़ेगा शिव सेना और भारतीय जनता पार्टी को? दोनों पार्टियों के अलग-अलग मत

“मुंबई मंथन” सम्मलेन में संबोधित करते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि एक अनाड़ी भी जानता है कि भारतीय जनता पार्टी और शिव सेना को 2019 और उसके आगे के चुनाव जीतने के लिए साथ जाना होगा क्योंकि केवल यही पार्टियाँ हैं जो हिंदुत्व के सिद्धांत पर चलती हैं, इंडिया टुडे ने रिपोर्ट किया।

शिव सेना अध्यक्ष उद्धाव ठाकरे की घोषणा कि उनकी पार्टी सभी चुनावों में अपने दम पर लड़ेगी के बाद यह बात प्रतिक्रिया के रूप में आई है। एन.डी.ए. से जुड़े होने के बावजूद शिव सेना भाजपा सरकार की आलोचना करती रहती है।

राम मंदिर की बात पर उन्होंने जवाब दिया, “देवेन्द्र फडणवीस भी उन 125 करोड़ भारतीयों में से है जो एक भव्य राम मंदिर देखना चाहते हैं।” उन्होंने कहा कि भाजपा सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार लोकतांत्रिक रूप से राम मंदिर का निर्माण कराना चाहती है।

पाँच वामपंथी कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के विषय में उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग द्वारा प्रेस सम्मेलन आयोजित न करना उनकी गलती हो सकती है परंतु उनके पास बहुत से साक्ष्य थे जो गिरफ्तारी का समर्थन करते थे , एन.डी.टी.वी. ने रिपोर्ट किया।

उन्होंने इस बात पर भी ज़ोर डाला कि गांधी परिवार के प्रति उनके मन के किसी प्रकार की घृणा नहीं है बल्कि वे उन्हें राजनीतिक और वैचारिक प्रतिद्वंदियों के रूप में देखते हैं। उन्होंने कहा कि अगले चुनावों का फैसला उनके काम न कि उनकी जाति से होगा। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इलाहाबाद का नाम परिवर्तित कर प्रयागराज करने के निर्णय की भी सराहना की।