राजनीति
ए एम यू में फिर राष्ट्र-विरोधी गतिविधि? विभाजन पर आधारित नाटक के लिए भारत के गलत नक्शे को दर्शाते हुए पोस्टर

जिन्नाह के चित्र पर विवाद के बाद अलीगढ़ मुस्लीम युनिवर्सिटी (ए एम यू) अब दूसरे विवाद के घेरे में है। इस बार विश्वविद्यालय को एक विवादास्पद पोस्टर के कारण रंगमंच का कार्यक्रम रद्द करन पड़ा, india.com ने रिपोर्ट किया।

केन्नेडी हॉल में ‘जिस लाहौर ना वेख्या’ नाटक का मंचन होने वाला था। इस नाटक के पोस्टर में विभाजन के पहले का भारतीय नक्शा दिखाया हुआ था जिसमें कई राज्य नहीं थे। पोस्टर और होर्डिंग बाबा सईद द्वार पर लगाए गए थे।

मामला तब सामने आया जब भाजपा ब्रज प्रांत क्षेत्रीय समिति के उपाध्यक्ष मानवेंद्र सिंह ने देखा कि पोस्टर में दिखाए गए नक्शे में जम्मू-कश्मीर का कुछ भाग्य नहीं था।

प्रशासन ने विवाद से बचने के लिए तुरंत कार्यवाही की। जैसे ही उन्हें पता चला, उन्होंने होर्डिग हटवाए और नाटक रद्द करवाए।

संस्थान के प्रवक्ता शाफे दिदवई का कहना है कि यह नाटक 1989 में असगर वजाहत द्वारा लिखा गया था और इसका मंचन कई जगहों पर हो चुका है। नाटक की सामग्री में किसी प्रकार की परेशानी नहीं है, केवल पोस्टर के कारण अभी के लिए नाटक रद्द कर दिया गया है।

इस महीने के शुरुआत में विश्वविद्यालय में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, सभा सदस्य और कैबिनेट सदस्य के लिए चुनाव हुए थे। बिहार का मश्कूर अहमद उसमानी छात्र संघ का अध्यक्ष, सज्जाद रथार उपाध्यक्ष और मोहम्मद फरहाद सचिव चुना गया।