राजनीति
एससी/एसटी अधिनियम के तहत एआईएमआईएम विधायक पर मामले का संबंध दुष्कर्म से

असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के विधायक पर अनुसूचित जाति/जनजाति (एससी/एसटी) अत्याचार निरोधक अधिनियम के तहत एक राजनेत्री को जातिसूचक अपशब्द कहने के लिए मामला दर्ज किया गया है।

अहमद बिन अब्दुल्लाह बलाला के विरुद्ध तेलंगाना के हैदराबाद में चंदरघाट पुलिस थाने पर प्राथमिकी (142/2020) दर्ज की गई है। हालाँकि एफआईआर 9 मई को दर्ज की गई थी लेकिन यह मामला अब जाकर सार्वजनिक हुआ है। शिकायतकर्ता बंगारु श्रुति हैं जो दलित नेता के रूप में जाने जाने वाले भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारु लक्ष्मण की पुत्री हैं।

बलाला के निकट सहयोगी मोहम्मद शकील पर एक नाबालिग दलित लड़की से दुष्कर्म का मामला दर्ज होने के तीन बाद ही यह एफआईआर दर्ज हुई है। वास्तव में इसका संबंध दुष्कर्म मामले से ही है।

श्रुति ने जो शिकायत दर्ज की है, उसके अनुसार शकील पर आरोप दर्ज होने के अगले दिन- 7 मई को वे और बलाला दुष्कर्म उत्तरजीविका की कॉलोनी में गए थे। वे दोनों अलग-अलग समय पर गए थे।

बाद में श्रुति ने बलाला के नाम पर बने एक फेसबुक पेज पर एक वीडियो देखा। वीडियो में बलाला अपने एक सहयोगी से पूछ रहे थे कि उनके अलावा क्षेत्र में और कौन आया, जब उन्होंने श्रुति का नाम सुना तो कहा, “थर्ड क्लास वाले, चोर लोग”।

श्रुति ने शिकायत में कहा कि वे इस टिप्पणी से चकित और दुखी हुईं और उन्हें आभास हुआ कि यह उनकी जाति (मडिगा, एक अनुसूचित जाति) के विरुद्ध है क्योंकि यह बात सर्वविदित है कि उनके पिता एक दलित नेता रहे हैं।

“सोशल मीडिया में वह वीडियो वायरल हो गया और अहमद बलाला के अपमानजनक शब्दों से मेरी सांप्रदायिक भावनाएँ गंभीर रूप से आहत हुई हैं।”, शिकायत में कहा गया।

बलाला पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 509 (महिला की गरिमा को आहत करने वाले शब्द, संकेत या कृत्य) और एससी/एसटी अधिनियम की धारा 3(1)(आर) के तहत मामला दर्ज हुआ है।

उनके सहयोगी शकील के विरुद्ध आईपीसी की धारा 448, 376 और 506 के तहत पॉक्सो (सौन अपराधों से बच्चों की सुरक्षा) और एससी/एसटी पर अत्याचार निरोध अधिनियमों मामला दर्ज किया गया ता।

उत्तरजीविका के कज़न की शिकायत पर क्रमांक 118/2010 में एफआईआर दर्ज की गई है। कथित अपराथ 5 और 6 मई की मध्यरात्रि को हुआ।

स्वाति गोयल शर्मा स्वराज्य में वरिष्ठ संपादक हैं और वे @swati_gs के माध्यम से ट्वीट करती हैं।