राजनीति
सबरीमाला मामले में केवल तीर्थयात्री नहीं, फेसबुक उपभोक्ता भी केरला पुलिस के निशाने पर

सबरीमाला में पुलिस कार्यवाही को लेकर सोशल मीडिया पर भरपूर प्रदर्शन हुआ। इसकी प्रतिक्रिया में केरला पुलिस ने राज्य के 25,000 फेसबुक उपभोक्ताओं को सामुदायिक नफरत फैलाने के लिए चेतावनी नोटिस जारी करने की सूचना दी है, द न्यू इंडियन एक्सप्रेस  ने बताया।

रिपोर्ट में बताया गया कि लगभग 4,000 नोटिस राजधानी तिरुवनंतपुरम में भेजे जा चुके हैं और उनमें से कुछ में पुलिस महनिरीक्षक मनोज अब्राह्म को धमकी देने का भी आरोप है।

“हमारे आधिकारिक फेसबुक पेज से पिछले दो महीनों में 4,000 लोगों को चेतावनी दी जा चुकी है।”, शहर के पुलिस आयुक्त पी प्रकाश ने बताया।

रिपोर्ट के अनुसार अधिकांश चेतावनी प्रवासी मलयालियों को भेजी गई है। पुलिस ने कहा कि प्रवासी मलयाली सोशल मीडिया पर संभावित रूप से सामुदायिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने की सामग्री डाल रहे थे। “पुलिस विभाग उनके पासपोर्ट निरस्त करने और उन्हें रेड-कॉर्नर नोटिस जारी करने की हद तक जा सकता है।”, पुलिस ने कहा।

हालाँकि भाजपा नेता के सुरेंद्रन जिन्हें पुलिस द्वारा नज़रबंद किया गया था, उन्हें जमानत मिल गई है। 69 अन्य लोग जिन्हें प्रदर्शन करने के लिए न्यायिक हिरासत में लिया गया था, उन्हें भी छोड़ दिया गया है। उन्हें लगातार मंत्र गाने और मंदिर के द्वार बंद होने तक नंदापंतल में रुकने के लिए गिरफ्तार किया गया था।