राजनीति
प्रयागराज के लिए योगी आदित्यनाथ ने कहा, “अगर नाम से कुछ नहीं होता तो रावण-दुर्योधन नाम क्यों नहीं रखे जाते?”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार (4 नवंबर) को संगम नगरी का नाम इलाहाबाद से बदलकर प्रयागराज करने के उ.प्र. सरकार के निर्णय को सही सिद्ध करते हुए आलोचकों से पूछा के क्यों उनके माता-पिता ने उनका नाम रावण या दुर्योधन नहीं रखा?

पतंजलि योगपीठ द्वारा आयोजित ‘ज्ञान कुंभ’ के समापन समारोह में योगी सभा को संबोधित कर रहे थे। द्वि-दिवसीय आयोजन में पाँच सत्रों का आयोजन हुआ जिसमें भारतीय शिक्षा व्यवस्था व इसमें किए जा सकने वाले सुधारों पर चर्चा हुई।

योगी ने अपने वक्तव्य में कहा, “मैंने प्रयागराज का नाम बदला, लोग कह रहे हैं कि नाम क्यों बदल दिया, कुछ लोगों ने कहा कि नाम से क्या होता है? मैंने कहा तुम्हारे माँ-बाप वे तुम्हारा नाम रावण और दुर्योधन क्यों नहीं रख दिया।”

उत्तर प्रदेश सरकार ने हाल ही में इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज रखा जिसपर सरकार की विपक्षी दलों ने कड़ी आलोचना की।

योगी ने नाम परिवर्तन को परंपरा से जोड़ते हुए कहा, “नाम का ही महत्त्व है, वो नाम हमको हमारी गौरवमयी परंपरा के साथ जोड़ता है, और इसलिए प्रयागराज नाम क्यों नहीं होगा?”