दुनिया / राजनीति
भारत-पाकिस्तान मुक़ाबला पहुँचा अंतरिक्ष तक: दोनों देश 2022 तक अंतरिक्ष में मानव भेजने की कर रहे तैयारी

भारतीय स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने पर स्वतंत्रता दिवस समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में यह घोषणा की थी कि 2022 तक वे भारतीय अंतरिक्ष यात्री को अंतरिक्ष में भेजेंगे और ऐसा करने वाला भारत चौथा देश होगा।

और इसके साथ ही अब गुरुवार (25 अक्टूबर) को पाकिस्तान के सूचना मंत्री फ़वाद चौधरी की ओर से यह घोषणा आई है कि 2022 तक चीन की सहायता से पाकिस्तान भी अंतरिक्ष में पहली बार मानव को भेजने की तैयारी में है।

चौधरी ने कहा, “पाकिस्तान अंतरिक्ष एवं ऊपरी वायुमंडल अनुसंधान आयोग (सुपार्को) और एक चीनी कंपनी के बीच संधि पर हस्ताक्षर किए गए हैं।”, टाइम्स ऑफ़ इंडिया  ने बताया।

3 नवंबर को अपने बीजिंग दौरे पर जाने से पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने संघीय कैबिनेट बैठक में इस प्रस्ताव को पारित किया। चीनी सैन्य वस्तुओं के विश्व में शीर्ष खरीददारों में से पाकिस्तान एक है।

इस वर्ष पाकिस्तान ने दो स्वदेशी सैटेलाइट बनाकर चीनी लॉन्च साधन से अंतरिक्ष में भेजी थी। इनमें से एक सैटेलाइट रिमोट सेंसिंग सैटेलाइट (पी.आर.एस.एस.1) थी जो पृथ्वी पर्यवेक्षणीय और ऑप्टिकल सेटैलाइट का दोहरा काम करेगी।

दूसरी सैटेलाइट सुपार्को द्वारा निर्मित एक टेस्ट सैटेलाइट पाक-टेस-1ए है जो पाकिस्तान की सैटेलाइट निर्माण क्षमताओं को बढ़ाकर मौसम, पर्यावरण और कृषि संबंधी सूचनाओं के लिए व्यवसायिक सैटेलाइटों पर इसकी निर्भरता कम करेगी।