राजनीति
लोक सभा चुनाव 2019- कांग्रेस और आप में गठबंधन वार्ता शुरू

आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने आम चुनावों में गठबंधन के लिए बातचीत आरंभ कर दी है। जैसा कि पीटीआई की रिपोर्ट में बताया गया। यह गठबंधन केवल राष्ट्रीय राजधानी की सात लोकसभा सीटों पर ही नहीं होगा अपितु पंजाब तथा हरियाणा की सीटों पर भी रहेगा।

प्रत्येक राज्य में दोनों ही दल अपनी क्षमता के अनुसार सीटों के साझा करने की रणनीति तैयार कर रहे हैं।

दिल्ली में सरकार चलाने वाली आम आदमी पार्टी राजधानी की सात लोकसभा सीटों में से संभवत: चार सीटों पर चुनाव लड़ेगी, वहीं अन्य तीन सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी रहेंगे।

वहीं कांग्रेस शासित पंजाब में आम आदमी पार्टी 13 में से संभवत: 4 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। उल्लेखनीय है कि पंजाब में आम आदमी पार्टी अंदरूनी खींचतान का समाना कर रही है जहाँ हाल ही में पार्टी के कुछ विधायकों ने बागी रुख अपना लिया है।

वहीं हरियाणा में मनोहरलाल खट्टर के नेतृत्व वाली सरकार को उखाड़ने के उद्देश्य से कांग्रेस द्वारा यहाँ सात सीटों पर प्रत्याशी उतारे जाने की संभावना है तथा अन्य तीन सीटों पर आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी रह सकते हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी लगातार पार्टी की राज्य इकाइयों को इस गठबंधन हेतु राजी करने के प्रयास कर रहे हैं। गौरतलब है कि 2019 के चुनावों में भाजपा के सामने यह दुर्जेय गठबंधन रहेगा।

आम आदमी पार्टी के संस्थापक तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कांग्रेस के प्रमुख आलोचक रहे हैं, अब उन्होंने कांग्रेस के विरुद्ध बयान देने कम कर दिए हैं। उनका यह बर्ताव कांग्रेस के साथ गठबंधन के पूर्वरंग प्रदर्शित करता है।

वहीं भाजपा के ख़िलाफ़ केजरीवाल बार-बार बोलते आए हैं तथा हाल ही में उन्होंने कहा था कि यदि 2019 में पुन: भाजपा सत्ता में आएगी तो कुछ नहीं बचेगा और उनके द्वारा संविधान को भी अपने अनुसार बदल दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह प्रत्येक भारतीय का कर्तव्य है कि वह भाजपा को हराने में सहयोग करे।

उल्लेखनीय है कि आम आदमी पार्टी भी उस वार्ता का हिस्सा बनी थी जो हाल ही में कांग्रेस द्वारा विपक्ष के साथियों के लिए रखी गई थी।

आम आदमी पार्टी की तरफ से पार्टी के वरिष्ठ नेता, आप के शीर्ष निर्णायक मंडल के सदस्य तथा संसदीय कार्य समिति द्वारा वार्ता की जा रही है। जैसा कि सूत्रों ने बताया।