दुनिया / राजनीति / संस्कृति
नवरात्रि के मंगल अवसर पर ईसाई धर्म प्रचारक संस्था की योजनाएँ वेबसाइट के माध्यम से आई सामने

टेक्सास आधारित ईसाई धर्म प्रचारक संस्था क्रिस्टार ने नवरात्रि और दशहरा के उत्सवों के दौरान ईसा मसीह के सुसमाचार का प्रचार और हिंदुओं के बीच गिरिजाघर स्थापित करने के लिए पार-सांस्कृतिक कार्यकर्ताओं एवं स्थानीय आस्तिक व्यक्तियों का आह्वान किया है।

इस ईसाई संस्था ने अपने सदस्यों के लिए अपनी वेबसाइट पर नवरात्रि के लिए10 दिवसीय प्रार्थना मार्गदर्शिका प्रकाशित की है।

अपनी वेबसाइट पर इस संस्था ने कहा- “अध्यात्म केंद्रित यह समय पार-सांस्कृतिक कार्यकर्ताओं और आस्तिकों को ईसा मसीह के सुसमार का प्रचार करने के लिए अद्वितीय अवसर प्रदान करता है क्योंकि उत्साह के माहौल में यह आध्यात्मिक अंधकार का भी समय है।”

इस संस्था ने केवल हिंदुओं के लिए नहीं बल्कि चर्च के वे सदस्य जो हिंदू पृष्ठभूमि से आते हैं और वे कार्यकर्ता जो नवरात्रि और उसके बाद के समय में हिंदुओं के मध्य गिरिजाघरों की स्थापना करने के अवसर तलाश रहे हैं, उनके लिए भी निर्देश जारी किए हैं।

इन निर्देशों में दशहरा तक नवरात्रि के हर दिन का महत्त्व बताया है और सदस्यों को किस दिन क्या प्रार्थना करनी है, यह भी उल्लेखित है।

यह प्रार्थनाएँ, और कार्यकर्ताओं का आह्वान करती हैं जो हिंदुओं के मध्य ईसा मसीह के सुसमाचार का प्रचार करें, हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराएँ और ईसा मसीह के प्रति हिंदुओं कके मन में श्रद्धा भाव उत्पन्न करें।

क्रिस्टार, टेक्सास के रिचर्डसन में आधारित एक अंतर्राष्ट्रीय ईसाई धर्म प्रचारक संस्था है। इसकी स्थापना 1930 में द इंडिया मिशन  के नाम से हुई थी, 1950 के आसपास इसका नाम बदलकर इंटरनेशनल मिशन  रखा गया और 1999 में यह अंततः क्रिस्टार  नाम कर दिया गया।

संयोग से प्रार्थना निर्देशिका को वेबसाइट से हटा लिया गया है।