समाचार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लुंबिनी में बौद्ध सांस्कृतिक केंद्र एवं हेरिटेज की आधारशिला रखी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाल के उनके समकक्ष शेर बहादुर देउबा ने बुद्ध पूर्णिमा के दिन सोमवार को भगवान् बुद्ध की जन्मस्थली लुंबिनी में बौद्ध सांस्कृतिक केंद्र एवं हेरिटेज की आधारशिला रखी।

टाइम्स नाऊ नवभारत की रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लुंबिनी पहुँचने पर सबसे पहले माया देवी मंदिर गए और उन्होंने दर्शन किए। इस दौरान नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा और उनकी पत्नी आर्जू राना देउबा भी उनके साथ थे।

लुंबिनी में जिस स्थान पर आधारशिला रखी गई है, वह स्थान अंतर-राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ का है और वह क्षेत्र लुंबिनी मठ क्षेत्र में आता है। प्रधानमंत्री मोदी ने वहाँ मंदिर परिसर में स्थित मार्कर स्टोन के सामने अपना सिर झुकाया। भगवान् बुद्ध का जन्म जिस स्थान पर हुआ, यह मार्कर स्टोन उसी स्थान को बताता है।

वहाँ पर बौद्ध परंपरा के अनुरूप हुई पूजा में प्रधानमंत्री सम्मिलित हुए। फिर दोनों प्रधानमंत्री मंदिर के समीप स्थित अशोक स्तंभ के निकट गए और दीप प्रज्ज्वलित किया। इसके पश्चात दोनों प्रधानमंत्रियों ने बोधि वृक्ष पर जल चढ़ाया। यह बोधि वृक्ष 2014 में प्रधानमंत्री मोदी ने भेंट किया था। वहाँ से फिर दोनों ने आगंतुक पुस्तिका पर अपने हस्ताक्षर किए।

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी एक दिन की नेपाल की आधिकारिक यात्रा पर पहुँचे हैं। उन्होंने अपने कार्यकाल में चार बार पड़ोसी देश की यात्रा की है। दूसरे कार्यकाल का उनका यह पहला दौरा है। लौटते समय प्रधानमंत्री मोदी कुशीनगर में भगवान् बुद्ध के महापरिनिर्वाण स्थल भी जाएँगे और उनका दर्शन भी करेंगे।