समाचार
प्रधानमंत्री ने हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मारे गए जनरल रावत सहित अन्य 12 को दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्र के शीर्ष सैन्य अधिकारियों ने गुरुवार को भारत के प्रथम चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका, ब्रिगेडियर एलएस लिद्दर और 10 अन्य रक्षा कर्मियों के पार्थिव शरीर को एक सैन्य विमान से दिल्ली लाए जाने के बाद पालम हवाई अड्डे पर श्रद्धांजलि दी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, एनएसए अजीत डोभाल, सेना प्रमुख एमएम नरवणे, नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार, एयर चीफ मार्शल एवीआर चौधरी और रक्षा सचिव अजय कुमार ने शोक समारोह में मृतकों को श्रद्धांजलि दी।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, “जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और सशस्त्र बलों के अन्य कर्मियों को मेरा अंतिम सम्मान दिया। भारत उनके समृद्ध योगदान को कभी नहीं भूलेगा।” प्रधानमंत्री ने मृतकों के परिजनों से भी संपर्क किया और उनसे कुछ देर बात की।

अब तक 13 में से केवल तीन शवों जनरल रावत व उनकी पत्नी मधुलिका रावत और ब्रिगेडियर एलएस लिडर की पहचान की जा सकी है। सेना के अधिकारियों ने कहा कि पहचाने गए शवों को अंतिम संस्कार के लिए परिवारों को दिया जाएगा। अन्य शवों की पहचान होने तक उन्हें आर्मी बेस अस्पताल के शवगृह में रखा जाएगा।

जनरल रावत और उनकी पत्नी के शवों को शुक्रवार सुबह 11 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक अंतिम दर्शन के लिए उनके 3 कामराज मार्ग स्थित आवास पर रखा जाएगा। दोपहर 12:30 बजे से दोपहर 1:30 बजे के मध्य का समय सैन्य कर्मियों द्वारा उत्कृष्ट कमांडर और उनकी पत्नी को सम्मान देने के लिए रखा जाएगा।

जनरल रावत की उनके आवास से बरार स्क्वायर श्मशान घाट तक की अंतिम यात्रा दोपहर 2 बजे के करीब शुरू होगी। अंतिम संस्कार शाम 4 बजे निर्धारित है।

अकेले बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का इस समय बेंगलुरु के एक सैन्य अस्पताल में उपचार चल रहा है।