समाचार
प्रधानमंत्री ने ‘जिटो कनेक्ट’ में विदेशी वस्तुओं का उपभोग कम करने का आह्वान किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय स्वतंत्रता के 75 वर्ष मनाते हुए शुक्रवार को विदेशी वस्तुओं के उपयोग को कम करने का आह्वान किया।

पुणे में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जैन अंतर-राष्ट्रीय व्यापार संगठन की ‘जिटो कनेक्ट 2022’ बिज़नेस मीट का उद्घाटन करते हुए मोदी ने कहा कि हमारा मंत्र स्थानीय वस्तुओं को मुखर करने और विदेशी वस्तुओं के उपयोग को कम करने पर होना चाहिए।

उन्होंने जिटो को स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव समारोह के दौरान स्थानीय वस्तुओं पर ध्यान केंद्रित करने को कहा।

प्रधानमंत्री ने कहा, “हमें विदेशी उत्पादों पर निर्भरता कम करनी होगी। निर्यात के लिए नए गंतव्य खोजें, स्थानीय बाज़ारों में इसके बारे में जागरूकता पैदा करें। शून्य दोष और पर्यावरण पर शून्य प्रभाव वाले उत्पाद होने चाहिए। आज देश प्रतिभा, व्यापार और प्रौद्योगिकी को प्रोत्साहित कर रहा है। आज देश प्रतिदिन दर्जनों स्टार्ट-अप शुरू कर रहा है, हर सप्ताह वे बड़े होते जा रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “आत्मनिर्भर भारत हमारा रास्ता भी है और संकल्प भी। परिवर्तन अपरिहार्य है, जब सरकार के पास प्रयास करने की इच्छा शक्ति होगी और लोगों का समर्थन होगा।”

मोदी ने जिटो प्रतिनिधियों से सरकार के जेम ई-मार्केटप्लेस पोर्टल का अध्ययन करने को कहा, जहाँ 40 लाख विक्रेताओं ने पंजीकरण करवाया है। उन्होंने कहा, “उनमें से अधिकतर एमएसएमई और स्वयं सहायता समूह थे। लोगों को इस नई व्यवस्था पर विश्वास है।”

उन्होंने कहा, “अब दूरदराज के गाँवों के लोग, छोटे दुकानदार और स्वयं सहायता समूह अपने उत्पाद सीधे सरकार को बेच सकते हैं। दुनिया ने वैश्विक शांति, समृद्धि, वैश्विक चुनौतियों से संबंधित समाधान और वैश्विक आपूर्ति शृंखला को मजबूत करने पर भारत की विकास पहल को स्वीकार किया है।”