समाचार
गंगा नदी पर 2024-25 तक 2.9 करोड़ मेट्रिक टन माल ढुलाई करने का है लक्ष्य

देश में माल ढुलाई से संबंधी लागत में कटौती और संयोजकता में वृद्धि के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रमुख 100 लाख करोड़ रुपये की गति शक्ति योजना बुधवार (13 अक्टूबर) को लॉन्च की गई। इसके तहत गंगा नदी पर माल ढुलाई की आवाजाही को वर्ष 2024-25 तक 2.9 करोड़ मेट्रिक टन करने का लक्ष्य है।

योजना के तहत सरकार का लक्ष्य बंदरगाहों की कार्गो हैंडलिंग क्षमता में वृद्धि करना और सभी राष्ट्रीय जलमार्गों पर माल ढुलाई वाले जहाजों की आवाजाही को बढ़ाना है।

जहाजरानी मंत्रालय के लिए 2024-25 तक के लक्ष्य में बंदरगाहों पर कार्गो क्षमता को 1,282 एमएमटीपीए से बढ़ाकर 1,759 एमएमटीपीए करना सम्मिलित है।

योजना का लक्ष्य 2020 में 7.4 करोड़ मेट्रिक टन से सभी राष्ट्रीय जलमार्गों पर 2024-25 तक 9.5 करोड़ मेट्रिक टन की माल ढुलाई करना है।

गंगा नदी के संबंध में इंफ्रास्ट्रक्चर योजना का लक्ष्य इस पवित्र नदी पर माल ढुलाई की आवाजाही को मौजूदा 90 लाख मेट्रिक टन से बढ़ाकर 2.9 करोड़ मेट्रिक टन करना है।

2014 के बाद से बंदरगाह और जलमार्ग के इंफ्रास्ट्रक्चर में काफी सुधार हुआ है। 2014 में सिर्फ 5 जलमार्ग थे। आज भारत में 13 कार्यात्मक जलमार्ग हैं। साथ ही बंदरगाहों पर जहाजों पर माल उतारने और लादने की प्रक्रिया का समय 2014 के 41 घंटे से घटकर 27 घंटे रह गया है।