समाचार
पाक में कुरान के कथित अपमान पर भीड़ ने मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति की हत्या की

पाकिस्तान में मानसिक रूप से अस्वस्थ एक व्यक्ति को भीड़ ने शनिवार (12 फरवरी) को इस अफवाह पर पीट-पीट कर मार डाला कि उसने कुरान की एक प्रति के पृष्ठ जला दिए थे। घटना पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के खानेवाल जिले के एक गाँव की है।

पुलिस ने मारे गए व्यक्ति की पहचान मुश्ताक अहमद के रूप में की है। पुलिस ने पीड़ित को आरोपी भी बनाया था क्योंकि उसने कुरान का अपमान किया था।

बता दें कि पाकिस्तान में इस्लाम की आलोचना और कुरान के अपमान की घटनाएँ अक्सर भीड़ द्वारा हमला करने के साथ ही समाप्त होती हैं। दरअसल, देश में इन कृत्यों को अपराध माना जाता है और इसके लिए विशेष कानून भी हैं,  जहाँ एक वर्ष के कारावास से लेकर मौत तक का दंड है।

मुश्ताक अहमद की हत्या वाले दिन ही भीड़ ने इसी तरह के आरोप में एक अन्य व्यक्ति को घेर लिया था। हालाँकि, पुलिस ने उसे बचा लिया। घटना पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के फैसलाबाद जिले की थी।

एक अखबार ने बताया कि अहमद के मामले में पुलिस ने हत्या और दंगा करने के साथ आतंकवाद विरोधी अधिनियम 1997 के तहत लगभग 80 संदिग्धों को हिरासत में लिया है।

डॉन के अनुसार, एक व्यक्ति द्वारा कुरान के पन्नों को फाड़कर आग लगाने की घोषणा के बाद सैकड़ों स्थानीय लोग एक मस्जिद के पास जमा हो गए। भीड़ ने उस व्यक्ति को एक पेड़ से लटका दिया और उसे ईंटों से तब तक मारा, जब तक कि वह मर नहीं गया।

युवक को पेड़ से लटकाए जाने की दर्दनाक घटना वीडियो में कैद हो गई। पाकिस्तानी पत्रकारों ने उस व्यक्ति की माँ का एक वीडियो बयान पोस्ट किया, जिसमें कहा गया था कि अहमद का गत 18 वर्षों से इलाज चल रहा था क्योंकि वह मानसिक रूप से अस्वस्थ था।