समाचार
“सार्वजनिक स्थानों में नमाज़ अदा करना सहन नहीं किया जाएगा”- मनोहर लाल खट्टर

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि खुले में नमाज़ पढ़ने की प्रथा कतई सहन नहीं की जाएगी।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के हवाले से कहा गया, “ये नमाज़ पढ़ने की प्रथाएँ जो खुले में हुई हैं, ये कतई सहन नहीं की जाएँगी लेकिन इसके लिए साथ बैठकर सौहार्दपूर्ण समाधान निकाला जाएगा।”

वे गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक की अध्यक्षता करने के लिए गुरुग्राम में थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरुग्राम में प्रशासन से कहा गया है कि इस मुद्दे को हल करने की आवश्यकता है।

उन्होंने 2018 में हुई वार्ता की भी चर्चा की, जिसके बाद एक सरकारी समिति ने कुछ नमाज़ स्थलों को नामित किया था और कुछ निर्णय अतीत में किए गए थे लेकिन अब वे वापस ले लिए गए हैं।

मनोहर लाल खट्टर ने कहा, “अपने ही घर में कोई नमाज़ पढ़ता है, कोई पाठ करता है, कोई पूजा करता है, इससे हमें कोई परेशानी नहीं है। धार्मिक स्थल इसलिए बनाए जाते हैं, ताकि लोग वहाँ जाएँ और ये सब काम करें, इस तरह के कार्यक्रम सार्वजनिक स्थानों में नहीं हो सकते हैं।”

उन्होंने इस मामले पर भविष्य में किसी भी संघर्ष की अनुमति नहीं देने पर बल देते हुए कहा “किसी को भी किसी और के अधिकारों में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए लेकिन किसी को भी अपने तरीके से जबरदस्ती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।”

यह गौर किया जाना चाहिए कि हिंदू कार्यकर्ताओं और स्थानीय निवासियों द्वारा शहर भर में गत कुछ माह से हर शुक्रवार को खुले नमाज़ स्थलों पर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है, जिससे उन क्षेत्रों के आसपास भारी पुलिस तैनाती हो रही है।