समाचार
प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) अभियान में स्वीकृत आवासों की संख्या हुई 1.14 करोड़

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) अभियान के तहत स्वीकृत घरों की कुल संख्या अब 1.14 करोड़ है। इनमें से 89 लाख से अधिक निर्माण के लिए भूमि पर हैं और 52 लाख का निर्माण कर उन्हें लाभार्थियों को सौंपा जा चुका है।

पीएमएवाई-यू के अफोर्डेबल हाउसिंग इन पार्टनरशिप (एएचपी), बेनिफिशरी-लेड कंस्ट्रक्शन (बीएलसी), पीएमएवाई-यू के इन-सीटू स्लम रिडेवलपमेंट (आईएसएसआर) वर्टिकल के अंतर्गत आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय (एमओएचयूए) के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री आवास योजना- शहरी (पीएमएवाई-यू) की केंद्रीय स्वीकृति व निगरानी समिति (सीएसएमसी) ने 3.61 लाख घरों के निर्माण की अनुमति दे दी।

मंगलवार (23 नवंबर) को बैठक की अध्यक्षता करते हुए एमओएचयूए सचिव ने अभियान के तहत आवासों के निर्माण के संबंध में राज्यों-केंद्रशासित प्रदेशों के मुद्दों को उठाया। उन्होंने बिना देर किए समस्याओं का समाधान करने को कहा, ताकि आवासों के निर्माण में गति लाई जा सके।

पीएमएवाई-यू आवासों का निर्माण विभिन्न चरणों में हो रहा है। 3.6 लाख आवासों की स्वीकृति के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) अभियान के तहत स्वीकृत आवासों की कुल संख्या अब 1.14 करोड़ है।

1.85 लाख करोड़ रुपये की केंद्रीय सहायता के साथ अभियान के तहत कुल निवेश 7.52 लाख करोड़ रुपये है। अब तक 1.13 लाख करोड़ रुपये की राशि जारी की जा चुकी है।

एमओएचयूए सचिव ने पीएमएवाई-यू के तहत निर्धारित समय के भीतर देश भर में आवास निर्माण को पूरा करने में तेज़ी लाने पर बल दिया, ताकि 2022 तक सभी के लिए आवास के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सके।

एमओएचयू सचिव ने तेलंगाना और तमिलनाडु में अफोर्डेबल रेंटल हाउसिंग कॉम्प्लेक्स (आर्क्स)- मॉडल 2- के तहत प्रस्तावों को भी स्वीकृति दी। शहरी प्रवासियों-गरीबों के लिए 19,535 इकाइयों को स्वीकृति दी गई, जिसमें 39.11 करोड़ रुपये का प्रौद्योगिकी नवाचार अनुदान सम्मिलित है।