समाचार
आगरा की मस्जिद में हिंदू देवी-देवताओं की मूर्ति का दावा कर केंद्र को भेजा नोटिस

शाही ईदगाह मस्जिद-श्रीकृष्ण जन्मभूमि विवाद मामले में याचिकाकर्ताओं के एक समूह ने गुरुवार को केंद्र और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को कानूनी नोटिस भेजकर हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों को स्थानांतरित करने की मांग की। इस बारे में उनका दावा है कि वे आगरा की एक मस्जिद की सीढ़ी के नीचे दफन हैं।

नोटिस में कहा गया कि सीढ़ियों पर जनता की आवाजाही तत्काल रोकी जाए। सिविल प्रक्रिया संहिता की धारा 80 के तहत नोटिस भेजे गए हैं, जिसके तहत पार्टियों को 60 दिनों के भीतर जवाब देना होता है।

याचिकाकर्ताओं ने दावा किया कि मथुरा के केशव देव मंदिर से ली गई महंगी मूर्तियों को मुगल सम्राट औरंगजेब द्वारा आगरा की बेगम साहिबा मस्जिद की सीढ़ियों के नीचे दफनाया गया था, जब उन्होंने 1670 में कथित तौर पर मंदिर को नष्ट कर दिया था।

याचिकाकर्ताओं में से एक अधिवक्ता महेंद्र प्रताप सिंह ने कहा, “निर्धारित समय के भीतर देवताओं को स्थानांतरित करें अन्यथा वे इसका खर्च उठाने के लिए उत्तरदायी होंगे।”

नई दिल्ली के केंद्रीय सचिवालय के माध्यम से केंद्र सरकार को नोटिस भेजे गए हैं, जिसमें नई दिल्ली के भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के निदेशक, आगरा के भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधीक्षक और मथुरा के भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के निदेशक हैं।

इससे पूर्व, मथुरा की एक न्यायालय ने इस मुद्दे को लेकर दायर की गई एक याचिका पर विचार करने से मना कर दिया था, जिसमें वादी को प्रतिवादियों को कानूनी नोटिस भेजने के लिए कहा गया था।