समाचार
पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे ने 649 किमी कटिहार-गुवाहाटी मार्ग का विद्युतीकरण पूरा किया

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) ने बिहार के कटिहार से असम के गुवाहाटी तक उच्च घनत्व नेटवर्क (एचडीएन) के कुल 649 रूट किलोमीटर (आरकेएम) या 1,294 टन किलोमीटर (टीकेएम) विद्युतीकरण का कार्य पूरा कर लिया है।

यह काम पूरा होने के साथ ही गुवाहाटी अब निर्बाध विद्युत कर्षण पर देश के प्रमुख शहरों से जुड़ जाएगा। हरित परिवहन होने के अलावा यह उच्च गति और भारी माल गाड़ियों के साथ यात्री ट्रेनों को सुविधा भी प्रदान करता है।

निर्बाध ट्रेन संचालन के कारण न्यू जलपाईगुड़ी, न्यू कूचबिहार में कर्षण परिवर्तन का कार्य अब समाप्त हो जाएगा, जिससे ट्रेनों की गतिशीलता में वृद्धि होगी। गुवाहाटी से कटिहार/मालदा टाउन के मध्य चलने का समय दो घंटे तक कम होने की संभावना है क्योंकि बेहतर गतिवर्द्धन के कारण ट्रेनें अब अधिक गति से चल सकती हैं।

10 से 15 प्रतिशत तक की लाइन क्षमता वृद्धि से एनएफ रेलवे के कई खंडों पर संतृप्ति कम हो जाएगी, जिससे अधिक कोच वाली ट्रेनें चलाने की अनुमति मिल सकेगी। इसके अलावा, विद्युतीकरण से बेहतर रख-रखाव होगा क्योंकि तेज ट्रेनें रख-रखाव ब्लॉकों के लिए अधिक समय मिलेगा।

भारतीय रेलवे ने 2023-24 तक अपने संपूर्ण ब्रॉड गेज नेटवर्क के विद्युतीकरण की एक महत्वाकांक्षी योजना शुरू की है, जिसके परिणामस्वरूप बेहतर ईंधन ऊर्जा का उपयोग होगा। इससे प्रवाह क्षमता में वृद्धि होगी, ईंधन व्यय में कमी आएगी और कीमती विदेशी मुद्रा में बचत होगी।