समाचार
बूस्टर खुराक की आश्यकता नहीं, तीसरी लहर की आशंका भी कम हो रही- एम्स निदेशक

एम्स के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने स्पष्ट किया कि भारत में वर्तमान में कोविड-19 वैक्सीन की बूस्टर खुराक की आवश्यकता नहीं है इसलिए टीकाकरण के विस्तार पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, डॉ गुलेरिया ने यह भी खुलासा किया कि तीसरी लहर की आशंका हर दिन के बीतने के साथ घट रही है।

डॉ गुलेरिया के बयान के अनुसार, “टीगे लगातार लग रहे हैं। अभी तक हमें नहीं दिख रहा है कि संक्रमण का प्रसार अधिक हो रहा है। हमारी शून्य सकारात्मकता दर बहुत अधिक है।”

उन्होंने आगे कहा, “इन सभी बातों से पता चलता है कि अभी हमें वास्तव में बूस्टर खुराक की आवश्यकता नहीं है। हमें भविष्य में इसकी आवश्यकता हो सकती है, जो निश्चित रूप से है। फिलहाल अभी हमें बूस्टर डोज की आवश्यकता नहीं है।”

डॉ गुलेरिया ने आश्वासन दिया कि हम पूरी तरह से सुरक्षित हैं। उन्होंने दोहराया कि अधिक से अधिक लोगों को उनकी कोविड -19 वैक्सीन खुराक प्राप्त करने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए।

उन्होंने बताया कि टीकाकरण को लेकर लोगों में हिचकिचाहट कम है इसलिए संपूर्ण टीकाकरण कार्यक्रम आगे बढ़ रहा है। गंभीर बीमारी, अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु को रोकने के संबंध में भी टीके प्रभावी हैं।

एम्स के निदेशक ने कहा, “इसकी बहुत कम आशंका है कि हम एक बड़ी तीसरी लहर देख पाएँगे।” हालाँकि, उनका मानना ​​था कि यह संक्रमण स्थानीय रह जाएगा इसलिए इसके मामले आते रहेंगे लेकिन वे देश में पहली और दूसरी कोविड-19 लहरों के दौरान देखे गए परिमाण की तरह नहीं होंगे।”