समाचार
एनआईए ने उमेश कोल्हे की हत्या की जाँच अपने हाथ में ली, पुलिस से जुटाए दस्तावेज

एनआईए ने मंगलवार को अमरावती के केमिस्ट उमेश कोल्हे की हत्या की जाँच अपने हाथ में ले ली और पुलिस से मामले से संबंधित दस्तावेज व साक्ष्य एकत्र किए।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि 21 जून की हत्या के मामले में पुलिस द्वारा जब्त की गई एक केस डायरी, चाकू व कुछ दोपहिया वाहन, सीसीटीवी फुटेज, सीडीआर डाटा जाँच एजेंसी ने कब्जे में लिया है।

एनआईए ने सभी आरोपियों को हिरासत में ले लिया, जिन्हें अमरावती न्यायालय में पेश किए जाने के बाद सोमवार को चार दिन की ट्रांजिट रिमांड दी गई।

आरोपियों मुद्दसर अहमद (22), शाहरुख पठान (25), अब्दुल तौफीक (24) शोएब खान (22), आतिब राशिद (22) और यूसुफ खान (32) और कथित मास्टरमाइंड शेख इरफान शेख रहीम को 8 जुलाई को या उससे पहले एनआईए की मुंबई न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किए जाने की संभावना है।

एनआईए ने आरोपी को रिमांड पर लेने की मांग करते हुए अमरावती न्यायालय को बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कोल्हे की हत्या की जाँच केंद्रीय एजेंसी को सौंप दी है।

अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार सुबह एनआईए के उप महानिरीक्षक विक्रम खलाटे और पुलिस अधीक्षक प्रवीण इंगले अपने साथियों संग कोतवाली थाने पहुँचे और मामले से जुड़े दस्तावेज व साक्ष्य अपने कब्जे में ले लिए।

उन्होंने बताया कि जाँच अधिकारी और जाँच में सम्मिलित अन्य लोगों के बयान दर्ज किए गए। कोल्हे के भाई महेश को एनआईए ने कोतवाली पुलिस थाने में तलब किया, जहाँ उनका बयान दर्ज किया गया। जाँच एजेंसी ने आरोपियों के घरों की गहन तलाशी और घटनास्थल का मुआयना किया।

नागपुर में पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा के राज्यसभा सांसद और अमरावती के पूर्व विधायक अनिल बोंडे ने दावा किया कि कोल्हे की हत्या के मास्टरमाइंड शेख रहीम कथित तौर पर मध्य प्रदेश के इंदौर में लव जिहाद की घटना में सम्मिलित था।