समाचार
उन्नाव मामले में योगी सरकार सख्त, लापरवाही पर 2 दरोगा समेत 6 पुलिसकर्मी निलंबित

उन्नाव में सामूहिक दुष्कर्म की पीड़िता को जिंदा जलाने के मामले में उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिस अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई की है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उन्नाव के पुलिस अधीक्षक (एसपी) विक्रांत वीर ने मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में बिहार थाना प्रभारी अजय त्रिपाठी समेत दो दारोगाओं को निलंबित कर दिया। इसके अतिरिक्त चार सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया है।

एसपी ने सर्विलांस और स्वॉट टीम प्रभारी विकास पांडेय को बिहार थाने की कमान सौंपी है। अनावरण एवं विवेचना शाखा में तैनात निरीक्षक राजेंद्र सिंह को सर्विलांस व स्वॉट टीम का प्रभारी बनाया है। हल्का इंचार्ज अरविंद सिंह रघुवंशी, एसआई श्रीराम तिवारी, बीट आरक्षी पंकज यादव, मनोज और संदीप कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

इससे पूर्व, रविवार दोपहर को पीड़िता के शव को गाँव में ही दफना दिया गया। बता दें कि शुक्रवार देर रात पीड़िता की दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान ह्रदय गति रुकने से मौत हो गई थी। दुष्कर्म के आरोपियों ने गुरुवार सुबह उसे जिंदा जलाने की कोशिश की थी। इसके बाद उसे गंभीर हालत में उन्नाव से लखनऊ के सिविल अस्पताल में रेफर किया गया था, जहां से बाद में उसे दिल्ली स्थानांतरित किया गया था।