समाचार
कुलभूषण जाधव मामले में 17 जुलाई को फैसला सुना सकता है अंतर-राष्ट्रीय न्यायालय

अंतर-राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मामले में 17 जुलाई को फैसला सुना सकती है। पाकिस्तान ने जाधव को जासूसी और आतंकवाद के आरोप में 2017 में मृत्युदंड की सजा सुनाई थी।

नवभारत टाइम्स  की रिपोर्ट के अनुसार, आईसीजे ने बयान में कहा, ‘पीस पैलेस में 17 जुलाई को भारतीय समयानुसार शाम 6.30 बजे सार्वजनिक बैठक होगी। इस दौरान न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ फैसला पढ़कर सुनाएँगे। इससे पहले, अंतर-राष्ट्रीय न्यायालय ने फरवरी में चार दिन की सुनवाई की थी। इसमें भारत और पाकिस्तान दोनों ने अपनी अपनी दलीलें रखी थीं।

भारत ने मई 2017 में आईसीजे के समक्ष यह मामला उठाया था। पाकिस्तान पर जाधव को काउंसलर न मुहैया करवाने का आरोप लगाया। भारत ने जाधव के खिलाफ पाकिस्तानी सेना के ट्रायल को भी चुनौती दी थी। यही नहीं, जाधव के खिलाफ फैसला आने तक किसी भी तरह की कार्रवाई किए जाने को लेकर पाकिस्तान पर रोक लगवाई थी।

पाकिस्तान का कहना है कि भारतीय नौसेना अधिकारी जाधव कारोबारी नहीं बल्कि एक जासूस है। पाक सेना ने 3 मार्च 2016 को उसे बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया था। वह ईरान से पाकिस्तान में दाखिल हुआ था।

वहीं, भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से किडनैप किया गया। जाधव वहाँ नौसेना से रिटायर होने के बाद कारोबार करने के लिए गए हुए थे। उधर, पाकिस्तान ने आईसीजे के समक्ष की गई भारत की याचिका को नकार दिया है।