समाचार
वर्ल्ड बैंक के डाटा अनियमितता आँकलन से ईज़ ऑफ बिज़नेस में चीन 7 स्थान पिछड़ा

वर्ल्ड बैंक अपने 2018 ईज़ ऑफ डूइंग बिजनेस (ईओडीबी) सूचकाँक में डाटा अनियमितताओं का हवाला देते हुए संशोधित रैंकिंग के साथ सामने आया। इसके परिणामस्वरूप चार देशों में चीन, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और अजरबैजान की रैंकिंग में संशोधन किया गया, जिसमें कुछ की रैंकिंग बेहतर की गई तो कुछ का स्कोर सही किया गया है। इसमें चीन को बड़ा झटका लगते हुए 7 पायदान का नुकसान हुआ है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, 27 अगस्त को वर्ल्ड बैंक ने अपनी ईओडीबी रिपोर्ट के प्रकाशन पर रोक की घोषणा कर पिछले संस्करणों के आँकड़ों में अनियमितता की समीक्षा के बाद बदलाव किए थे।

हालाँकि, डूइंग बिजनेस 2018 की रिपोर्ट में चीन को दुनियाभर में 78वें स्थान पर रखा गया था। अब डाटा को संशोधित करते हुए उसकी रैंकिंग को 7 स्थानों तक नीचे यानी 85वें पायदान पर कर दिया गया है। चीन के डाटा में बिज़नेस शुरू करने, क्रेडिट प्राप्त करने और भुगतान कर संकेतक में अनियमितताएँ पाई गई थीं।

इसमें संशोधनों के बाद चीन का कुल स्कोर 65.3 से 64.6 से नीचे संशोधित किया गया है। इसके अलावा, अजरबैजान की रैंकिंग 34 से बढ़कर 28 हो गई है। सऊदी अरब की रैंकिंग 63 से गिरकर 62 हो गई है। यूएई की रैंक 16 पर बनी हुई है।

इस बीच, यह गौर किया जाना चाहिए कि नवीनतम डूइंग बिजनेस 2020 की रिपोर्ट के अनुसार, व्यापार में आसानी करने पर भारत की रैंकिंग 14 स्थान की छलांग लगाकर 63वें स्थान पर पहुँच गई। भारत ने पाँच वर्षों (2014-19) में 79 पदों की अपनी रैंक में सुधार किया है।