समाचार
हवाई क्षेत्र पर प्रतिबंध हटाने के लिए पाकिस्तान ने भारत के सामने रखी शर्त

पाकिस्तान विमानन सचिव शाहरुख नुसरत ने भारत को सूचित करते हुए शर्त रखी है कि व्यावसायिक उड़ानों के लिए हम अपना हवाई क्षेत्र तब तक नहीं खोलेंगे, जब तक भारतीय वायुसेना अपने अग्रिम हवाई अड्डों पर तैनात लड़ाकू विमानों को हटा नहीं लेता है।

पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, नुसरत ने कहा, “भारतीय अधिकारियों को बताया गया है कि भारतीय अग्रिम हवाई अड्डों पर अभी तक लड़ाकू विमान तैनात हैं। पाकिस्तान हवाई क्षेत्र के प्रतिबंध को तब तक जारी रखेगा, जब तक उन्हें वहाँ से हटा नहीं लिया जाता है।”

26 फरवरी को भारतीय वायुसेना द्वारा बालाकोट में आतंकियों ठिकानों के खिलाफ हवाई हमले के बाद से पाकिस्तान ने भारत के साथ लगती हवाई क्षेत्र की सीमा पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस बीच भारत ने 31 मई से पाकिस्तानी वाणिज्यिक उड़ानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोल दिया था। इसके लिए भारतीय वायुसेना भी अस्थायी प्रतिबंध हटाने की घोषणा कर चुकी है।

हालाँकि, पाकिस्तान अधिकारी ने इसका विरोध करते हुए दावा किया, “भारतीय हवाई क्षेत्र के बंद होने के बाद से थाईलैंड से पाकिस्तानी उड़ानों को बहाल नहीं किया गया है। मलेशिया के लिए पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) की उड़ानें भी निलंबित हैं।”

पाकिस्तान ने इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एससीओ शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए बिश्केक जाने को अपना हवाई क्षेत्र खोला था, जबकि भारतीय अधिकारियों ने इसके लिए किसी तरह का अनुरोध नहीं किया था। फिर भी भारतीय प्रधानमंत्री ने ओमान के बजाय दूसरे मार्ग से जाने को प्राथमिकता दी थी।