समाचार
पश्चिम बंगाल में हो रही हिंसा में महिलाएँ भी बन रहीं निशाना, महिला आयोग ने लिया संज्ञान

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद भाजपा के पुरुष कार्यकर्ताओं के साथ महिला कार्यकर्ताओं को भी नहीं बख्शा जा रहा है। भाजपा का दावा है कि उसके 9 से अधिक कार्यकर्ता और समर्थक हमले में मारे गए हैं, जिसमें एक महिला भी शामिल है। भाजपा ने तृणमूल कांग्रेस को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है।

नंदीग्राम का एक वीडियो वायरल हो रहा रहा है, जिसमें दो युवक महिला के बाल पकड़कर उन्हें बुरी तरह पीट रहे हैं। पश्चिम बंगाल में भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का दावा है कि वीडियो बंगाल का है और तृणमूल कांग्रेस के मुस्लिम गुंडे पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं के साथ केंदामाड़ी गाँव में मारपीट कर रहे हैं। इस मामले का राष्ट्रीय महिला आयोग ने स्वतः संज्ञान लिया है। आयोग ने ट्वीट करके मामले में उचित कार्रवाई करने की बात कही है।

उधर, कोलकाता से 300 किलोमीटर दूर पड़ने वाले ननूर विधानसभा (बीरभूम जिला) में दो महिला पोलिंग एजेंट के साथ सामूहिक दुष्कर्म की बात भाजपा ने कही है, जिसमें से एक महिला गायब है। कुछ महिलाओं ने अभद्रता और छेड़छाड़ के भी आरोप लगाए हैं। गाँव में बहुत से परिवारों में कम ही पुरुष परिवार के सदस्य होते हैं। ऐसे में वहाँ की महिलाएँ किसी दुःस्वप्न की तरह ही हर दिन बिताने को मजबूर हैं।

स्वपन दासगुप्ता ने ननूर में भयावह स्थिति पर ट्वीट कर लिखा था कि 1,000 से अधिक हिंदू परिवार बचने के लिए खेतों में छिपे हैं क्योंकि लूटमार करने वाली भीड़ भाजपा समर्थकों को वहाँ से बाहर करने के लिए खोज रही है। कई महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और दुर्व्यवहार की रिपोर्टें भी सामने आई हैं। इस घटना के बाद लोगों ने गृह मंत्री अमित शाह को टैग कर क्षेत्र की सुरक्षा की मांग करते हुए ट्वीट किए हैं।