समाचार
उत्तर प्रदेश में सामने आया धर्मांतरण और तीन तलाक का मामला, जाँच शुरू

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में धर्मांतरण, तीन तलाक और दुष्कर्म के प्रयास का मामला सामने आया है। पीड़िता ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की है और कहा है, “अगर उसे न्याय न मिला तो वह आत्महत्या कर लेगी।”

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, पीड़िता को ससुराल से निकाल दिया गया है और मायकेवाले भी उसे रखने को तैयार नहीं हैं। वह मजदूरी करके अपना गुज़ारा कर रही है। उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के रेहरा बाजार थाना क्षेत्र के मसीहाबाद गाँव की पीड़िता शीला राजभर ने बताया, “उसका प्रेम प्रसंग दो साल पहले गाँव के अब्दुल कद्दूस से चला था।”

उसने बताया, “शादी के नाम पर आरोपी अब्दुल उसे दूसरे स्थान पर ले गया। वहाँ उसका धर्मांतरण करवाया और फिर उससे निकाह कर लिया। उसका नाम भी बदलकर निशा बानो रख दिया। कुछ दिन बाद अब्दुल काम के सिलसिले में दो साल के लिए दुबई चला गया। उसके जाने के बाद छोटे भाई और बहनोई ने उसके साथ रेप की कोशिश की।”

पीड़िता का कहना है, “मेरे विरोध करने पर मुझे मारा-पीटा गया और घर से निकाल दिया गया। इस पर दोस्त के फोन से अब्दुल ने तीन तलाक भी दे दिया। मुझे कुछ दिन पहले पता चला है कि अब्दुल वापस आ गया है। उसने मुंबई में रहकर दूसरी शादी कर ली है। परिवार को भी वहीं बुला लिया है।”

मामले की जाँच कर रहे एसपी देवरंजन वर्मा का कहना है,”पीड़िता को जाँच के बाद न्याय दिलाने का पूरा भरोसा दिया गया है। सर्वोच्च न्यायालय के दिशा-निर्देशों के मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।”