समाचार
कानपुर में कोविड-19 के कुल 170 मामलों में एक-तिहाई मदरसों में पढ़ने वाले छात्र

कानपुर में कोविड-19 के कुल 170 मामलों में लगभग एक-तिहाई यानी 53 से अधिक मामले तीन मदरसों के हैं। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, इनमें ज़्यादातर 10 से 20 वर्ष की आयु के छात्रों के परीक्षण की रिपोर्ट सकारात्मक आई है।

जिला स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि मार्च में दिल्ली निज़ामुद्दीन में हुई धार्मिक सभा से शहर लौटे तबलीगी जमात के सदस्यों की वजह से मदरसा के छात्र सबसे अधिक संक्रमित हुए। जिले में कई हॉट स्पॉट चिह्नित हुए, जिसमें गत 12 दिनों में तीन मदरसों में संक्रमण के सबसे अधिक मामले आए।

मदरसों के कई बच्चे बहुत छोटे हैं, जो संक्रमित निकले। रिपोर्ट में डीएम (कानपुर सिटी) ब्रह्म देव तिवारी के हवाले से लिखा गया, “सबसे अधिक मामले कुली बाज़ार के मदरसे से आए, जहाँ 38 संक्रमित लोग मिले। मदरसे के पास एक हाते वाली मस्जिद है, जो जमातियों के रुकने की वजह से हॉट स्पॉट बन गई।”

मछरिया क्षेत्र के एक मदरसे में करीब सात मामले मिले। गत सप्ताह कानपुर में जाजमऊ के अशरफाबाद मदरसे के छह छात्रों के संक्रमित पाए जाने के बाद क्षेत्र को रेड ज़ोन घोषित कर दिया गया था। स्वास्थ्यकर्मियों ने मदरसे के 89 छात्रों की जाँच की। इसमें सकारात्मक पाए जाने वालों को पृथक केंद्र ले जाया गया। क्षेत्र को सील कर दिया गया है।

जिला मजिस्ट्रेट ब्रह्म देव तिवारी ने कहा, “भले ही जिले में कई जगह हॉटस्पॉट बनाए गए हों पर गत 12 दिनों में सबसे ज्यादा मामले तीन मदरसों से आए। संक्रमित लोगों में कई छोटे बच्चे भी हैं, जो मदरसों में पढ़ रहे थे। अच्छी बात है कि सभी मामले स्पर्शोन्मुख के हैं और उनके ठीक होने के संकेत भी मिल रहे हैं।” शहर में पिछले 24 घंटों में 20 नए मामले आ चुके हैं और जिले में नियंत्रण क्षेत्रों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है।