समाचार
कर्नाटक- भगवान हनुमान की जन्मस्थली किष्किंधा में बनेगी उनकी 215 फीट ऊँची प्रतिमा

कर्नाटक के हंपी में हनुमान जन्मभूमि ट्रस्ट भगवान हनुमान की 215 फीट ऊँची प्रतिमा बनवाने की योजना बना रहा है। यह उनकी जन्मस्थली किष्किंधा में बनाई जाएगी।

कर्नाटक हनुमान जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र (एचजेटीके) ट्रस्ट इसी महीने की शुरुआत में 5 फरवरी को बनाया गया था। केंद्र द्वारा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की देखरेख के लिए बनाए गए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट की घोषणा के साथ ही यह अस्तित्व में आया था।

गोविंदानंद सरस्वती स्वामी की अध्यक्षता में ट्रस्ट हम्पी में किष्किंधा पंपक्षेत्र के समग्र विकास के लिए गठित किया गया है। न्यू इंडियन एक्स्प्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, सूत्रों ने कहा, “हंपी जो पहले एक पर्यटक क्षेत्र था, अब उसे एक तीर्थस्थल में बदल दिया जाएगा।”

सूत्रों का कहना है, “राम मंदिर के निर्माण के बाद यह अयोध्या की भव्यता के बराबर होगा। अयोध्या में 225 फीट की विश्व की सबसे ऊँची राम प्रतिमा बनाई जाएगी। भगवान राम और हनुमान अविभाज्य थे इसलिए हनुमान जी की सबसे ऊँची प्रतिमा लगाने का भी फैसला किया गया है लेकिन वो भगवान राम की तुलना में 10 फीट छोटी होगी। कहा जा रहा है कि हनुमान जी की प्रतिमा तांबे से बनाई जाएगी।”

रिपोर्ट के अनुसार, एक हनुमंथा रथ इस वर्ष देश की यात्रा पर निकलेगा। वो प्रतिमा व अन्य खर्चों के लिए धन एकत्र करेगा। रथ की यात्रा अयोध्या में समाप्त होगी। पूरे देश की यात्रा करने में रथ को करीब तीन वर्ष का समय लगने की संभावना है। ट्रस्ट के सदस्यों का कहना है कि इस बीच किष्किंधा में निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

प्रतिमा और मंदिर की स्थापना के लिए ट्रस्ट 10 एकड़ जमीन खरीदने की योजना बना रहा है। इस वर्ष हनुमान जी की जयंती के लिए अयोध्या से 101 संतों को भी ट्रस्ट आमंत्रित करेगा।