समाचार
केंद्र ने बढ़ाया कदम तो टिकैत बोले, “आंदोलन लाठी-गोली या वार्ता से समाप्त करवा लो”

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान संगठनों से आंदोलन को समाप्त करके पुनः वार्ता शुरू करने की अपील की। इस पर भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) नेता राकेश टिकैत ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “आंदोलन तो केंद्र सरकार के हाथ में है। वह चाहे वार्ता से या लाठी-गोली से इसे समाप्त करवा ले।”

टाइम्स नाऊ हिंदी की रिपोर्ट के अनुसार, राकेश टिकैत ने कहा, “हम वार्ता के लिए सहमत हैं लेकिन इसमें कोई शर्तें नहीं होनी चाहिए। केंद्र सरकार जब चाहे वार्ता कर ले। यह आंदोलन तब तक चलेगा, जब तक सरकार चाहेगी। यह हमारे हाथ में नहीं है। केंद्र सरकार चाहे तो आंदोलन स्थल पर लाठी-गोली चलाए, तब समाप्त हो जाएगा, नहीं तो वार्ता करके इसे समाप्त करवा ले।”

इससे पूर्व, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और राज्यमंत्री शोभा करंदलाजे ने कहा था कि सरकार किसानों से हर मुद्दे पर वार्ता करने को तैयार है। तोमर ने कहा, “मैं आपके माध्यम से किसान संगठनों से इस मुद्दों पर गंभीरता से विचार करने और प्रदर्शन समाप्त करने की अपील करना चाहता हूँ। हम वार्ता के लिए तैयार हैं।”

बता दें कि किसानों की योजना 19 जुलाई से मॉनसून सत्र शुरू होने से पूर्व केंद्र सरकार पर दबाव बनाने की है। अगर सरकार उनसे वार्ता नहीं करेगी तो वे संसद का घेराव करेंगे। संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा, “मॉनसून सत्र शुरू होने से दो दिन पूर्व सभी विपक्षी सांसदों को एक चेतावनी पत्र दिया जाएगा।”