समाचार
असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी “अब्बासुद्दीन सिद्दिकी के नेतृत्व” में लड़ेगी बनर्जी के विरुद्ध चुनाव

पश्चिम बंगाल में आगामी कुछ महीनों में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ममता बनर्जी के चिर विरोधी अब्बासुद्दीन सिद्दीकी से भेंट करने रविवार (3 जनवरी) को हुगली पहुँचे।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, अब्बासुद्दीन सिद्दीकी से दो घंटे की वार्ता के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, “हमारी पार्टी सिद्दीकी के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी। वही यह तय करेंगे कि एआईएमआईएम कैसे चुनाव लड़ेगा। मुझे विश्वास है कि बिहार में हमने जो हासिल किया, उसी की तरह हमारा यहाँ भी प्रदर्शन रहेगा। केवल अल्पसंख्यक वोट हमारा लक्ष्य नहीं। हम आदिवासी और अन्य पिछड़े वर्गों के लिए भी लड़ना चाहते हैं। अगर कोई भाजपा को रोक सकता है, तो वह सिद्दीकी हैं।”

हालाँकि, अब्बासुद्दीन ने अभी किसी चीज़ पर हामी नहीं भरी है। उन्होंने कहा, “मैं अपने अगले कदम की जल्द घोषणा करूँगा।” परिवार के टोह सिद्दीकी ने ओवैसी की यात्रा पर कुछ नहीं कहा। अब्बासुद्दीन के बड़े चचेरे भाई ने कहा, “फुरफुरा शरीफ के लोग इस तरह से राजनीति का हिस्सा नहीं हो सकते।”

राज्य में मुस्लिम आबादी 2011 की जनगणना के दौरान 27.01 प्रतिशत थी, जो अब बढ़कर करीब 30 प्रतिशत होने का अनुमान है। अधिक मुस्लिम आबादी मुर्शिदाबाद (66.28 प्रतिशत), मालदा (51.27 प्रतिशत), उत्तर दिनाजपुर (49.92 प्रतिशत) दक्षिण 24 परगना (35.57 प्रतिशत) और बीरभूम (37.06 प्रतिशत) जिलों में है।