समाचार
शारजील के “सपनों को मंज़िल तक पहुँचाने” के नारों के बीच उद्धव सरकार पर आरोप

क्वीर आजादी आंदोलन (क्यूएएम) की ओर से मुंबई में प्राइड सॉलिडेरिटी गैदरिंग 2020 आयोजित किया गया था। एलजीबीटीक्यू समुदाए की इस रैली में छात्रों के एक समूह ने कट्टरपंथी और “शारजील तेरे सपनों को मंजिल तक पहुँचाएँगे” जैसे नारे लगाए गए।

वायरल हुए वीडियो में लोगों के एक समूह को जय भीम के झंडे उठाकर कट्टरपंथी नारे लगाते हुए सुना जा सकता है। वहीं, महाराष्ट्र में भाजपा के वरिष्ठ नेता और मुंबई के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने इस रैली के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि उद्धव ठाकरे सरकार पुलिस पर मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं करने का दबाव डालकर उन्हें बचा रही है।

हालाँकि, वीडियो के वायरल होने के तुरंत बाद रैली का हिस्सा रहे कई लोगों ने कहा, “हमने इस घटना की योजना नहीं बनाई थी और ना ही इस रैली में मौजूद अधिकांश लोगों ने इस पर ध्यान दिया था। कट्टरपंथी नारा लगाने वाले लोगों ने अपने फायदे के लिए रैली का सहारा लेने की कोशिश की है।”

इसके अलावा, क्यूएएम के आयोजकों ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की। इसमें उन्होंने खुद को घटना से अलग कर लिया है। उन्होंने यह भी कहा कि हमारा समूह शारजील के समर्थन में लगने वाले कट्टरपंथी नारे और मार्च में भारत की अखंडता के खिलाफ लगाए गए नारों की कड़ी निंदा करता है।