समाचार
“पश्चिम बंगाल में एनआरसी नहीं होगा क्योंकि यहाँ हम सरकार चलाते हैं”- ममता बनर्जी
आईएएनएस - 23rd October 2019

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने असम और कर्नाटक जैसे राज्यों में स्थापित किए जा रहे निरोध केंद्रों में अवैध विदेशियों को रखने के लिए इस तरह के शिविरों की पश्चिम बंगाल में होने की संभावनाओं से इनकार किया है।

उन्होंने कहा, “मैं सभी सरकारी अधिकारियों की उपस्थिति में पूरी ज़िम्मेदारी के साथ कहती हूँ कि हमारे राज्य में एनआरसी के अभ्यास की कोई योजना नहीं है।”

ममता बनर्जी ने सिलीगुड़ी के पास उत्तर कन्या में एक प्रशासनिक बैठक को संबोधित करते हुए कहा, “निरोध शिविरों के यहाँ होने का सवाल नहीं बनता क्योंकि इसका निर्माण तभी कर सकते हैं, जब हम ऐसा चाहेंगे। एनआरसी का अभ्यास असम में हो सकता था क्योंकि यह असम समझौते 1985 का हिस्सा था।”

समझौते पर तत्कालीन कांग्रेस के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी, ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन और ऑल असम गण संग्राम परिषद के नेताओं की उपस्थिति में हस्ताक्षर किए थे। उन्होंने 1979 से 1985 तक छह साल लंबा आंदोलन करके अवैध बांग्लादेशियों का पता लगाने और उनके निर्वासन की मांग की थी।

ममता बनर्जी ने कहा, “एनआरसी बंगाल में नहीं होगा क्योंकि हम यहाँ सरकार चलाते हैं। वे असम में ऐसी कवायद कर सकते थे क्योंकि यह मामला 1985 के असम समझौते का एक हिस्सा था। इसकी एक वजह यह भी है कि राज्य में भाजपा की सरकार है।”

उन्होंने कहा, “तृणमूल कांग्रेस ने संसद में नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध किया है क्योंकि ऐसी बातें धर्म के आधार पर नहीं की जानी चाहिए। अगर सीएबी पास होता है तो वह लोगों को छह साल के लिए विदेशियों के रूप में प्रस्तुत करेगा।”

कैब भारत में छह वर्ष से रह रहे या भारत सरकार की नौकरी करने वाले पाकिस्तानी, बांग्लादेशी और अफगानिस्तानी अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान करता है पर यह अवधि इससे कम नहीं होनी चाहिए।