समाचार
“विदेशी विनाशकारी विधारधारा के रूप में आए नए एफडीआई से देश को बचाना है”- मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार (8 फरवरी) को राज्यसभा में कृषि कानूनों और इसके संबंधित विषयों पर बोलते हुए चेतावनी दी कि भारत को नए प्रकार के एफडीआई- विदेशी विनाशकारी विचारधारा से बचाने की आवश्यकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, “मैं देख रहा हूँ कि अब एक दिन में एक नया एफडीआई विदेशी विनाशकारी विचारधारा के रूप में बाज़ार में प्रवेश कर रहा है। हमें इससे देश को बचाना होगा।”

ये टिप्पणियाँ कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग द्वारा साझा किए गए टूलकिट की पृष्ठभूमि को लेकर आती हैं, जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समन्वित किसान विरोध प्रदर्शनों पर प्रकाश डालती हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने पेशेवर प्रदर्शनकारियों को आंदोलनजीवी के रूप में कहा। साथ ही चेतावनी कि भारत को ऐसे लोगों से खुद को बचाने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “हम श्रमजीवी, बुद्धजीवी जैसे शब्दों से परिचित हैं लेकिन मैं देख रहा हूँ कि भारत में हाल ही में एक नई जमात ने जन्म लिया है। उसे आंदोलनजीवी कहा जाता है। ये सभी आंदोलनजीवी ही परजीवी हैं।”