समाचार
ममता बनर्जी को जय श्रीराम के नारे लगने से आया गुस्सा, कार्यक्रम में बोलने से किया मना

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शनिवार (23 जनवरी) को कोलकाता में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में जय श्रीराम के नारे लगने से गुस्सा हो गईं। उनका पारा इतना बढ़ गया कि उन्होंने मंच पर बोलने से भी मना कर दिया।

विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे। मंच पर मुख्यमंत्री को जब बोलने के लिए आमंत्रित किया गया तो दर्शक दीर्घा से जय श्रीराम के नारे लगाए जाने लगे। इसका उन्होंने विरोध भी किया।

ममता बनर्जी ने कहा, “मुझे लगता कि सरकार के कार्यक्रम की कुछ गरिमा होनी चाहिए। यह सरकार का कार्यक्रम है कोई राजनीतिक पार्टी का नहीं। यह जनता का कार्यक्रम है। मैं आभारी हूँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की, संस्कृति मंत्रालय की कि आप लोगों ने कोलकाता में यह कार्यक्रम आयोजित किया। लेकिन किसी को आमंत्रित करके उसका अपमान करना आपको शोभा नहीं देता है। मैं इसका विरोध करती हूँ और कुछ नहीं बोलूंगी।”

इससे पूर्व, ममता बनर्जी ने नेताजी की जयंती पर आयोजित एक रैली में कहा था, “एक समय कोलकाता देश की राजधानी थी तो एक बार फिर से इस शहर को भारत की दूसरी राजधानी के रूप में क्या घोषित नहीं किया जाना चाहिए? कोलकाता देश की दूसरी राजधानी बनानी ही होगी।”

उन्होंने इस दौरान एक देश, एक नेता, एक राशन कार्ड और एक पार्टी के विचार को बदलने की आवश्यकता बताते हुए भाजपा और केंद्र सरकार पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा, “हमारे सांसदों को भी कोलकाता को देश की दूसरी राजधानी बनाने के लिए इस मुद्दे को उठाना चाहिए।”