समाचार
पाकिस्तान में जा रहे अतिरिक्त पानी को रोकने के लिए भारत ने शुरू की प्रक्रिया- शेखावत

केंद्रीय जल मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने मंगलवार (21 अगस्त) को कहा कि सरकार ने सिंधु जल संधि का उल्लंघन किए बिना पाकिस्तान में बह रहे अतिरिक्त पानी को रोकने की प्रक्रिया शुरू कर दी है, टाइम्स ऑफ इंडिया  ने रिपोर्ट किया।

शेखावत ने कहा, “पाकिस्तान में बहने वाले  अतिरिक्त पानी को रोकने के लिए काम शुरू हो चुका है। मैं उस पानी की बात कर रहा हूँ, जो पाकिस्तान जा रहा है और मैं सिंधु जल समझौते को तोड़ने की बात नहीं कर रहा हूँ।”

सिंधु जल संधि के अनुसार, ब्यास, रावी और सतलज नदी का नियंत्रण भारत के पास है, जबकि पाकिस्तान सिंधु, चिनाब और झेलम को नियंत्रित करता है, जिसमें पाकिस्तानी नदियों को भारत से अधिक पानी मिलता है।

संधि के अनुसार, नई दिल्ली को सिंधु, चिनाब और झेलम के पानी का उपयोग सीमित सिंचाई और बिजली उत्पादन, घरेलू, औद्योगिक और गैर-उपभोगकारी उपयोग के असीमित उपयोग की अनुमति है।

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, “हम ऐसी योजना तैयार करने की कोशिश में हैं, जिससे पाकिस्तान की तरफ जाने वाले पानी को मोड़कर हम अपने किसानों और उद्योग के लोगों को दे सकें।” उन्होंने कहा कि सरकार हाइड्रोलॉजिकल और टेक्नो फिजिबिलिटी अध्ययन पर काम कर रही है।